औरंगाबाद

औरंगाबाद पुलिस ने दिया जिले का अपराधिक व्योरा, अपराधिक गतिविधि में 17 नक्सली के साथ पकड़े गए 169 अपराधी,जप्त हुए 255109 लीटर देशी विदेशी शराब

औरंगाबाद पुलिस ने प्रस्तुत किया वर्ष भर का आपराधिक व्योरा,पकड़े गए 17 नक्सली सहित 169 अपराधी।

255109 लीटर देशी विदेशी शराब जप्त, मास्क एवं वाहन जांच में वसूले गए 9332800 रुपये।

औरंगाबाद। औरंगाबाद की पुलिस ने जिले के विभिन्न थानों में वर्ष 2021 में दर्ज हुए मामले एवं उक्त मामलों में हुई  कार्रवाई की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराई है। एसपी कांतेश कुमार मिश्रा के निर्देश पर विभाग ने वर्ष 2021 के 1 जनवरी से लेकर 28 दिसंबर तक हुए अपराधिक मामलों का ब्यौरा प्रस्तुत किया है। प्राप्त विवरण के अनुसार जिले में हत्या, डकैती/लूट एवं नक्सल गतिविधि के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए पुलिस ने अब तक 169 अपराधियों को पकड़ कर उन्हें सजा दिलाई है।

 

 

पुलिस विभाग से प्राप्त विवरण के अनुसार वर्ष 2021 में जिले में हत्या के 59, डकैती और लूट के 45 तथा नक्सल गतिविधि के 5 मामले प्रतिपादित हुए जिसमें क्रमशः 108, 44 एवं 17 अपराधियों की गिरफ्तारी हुई। वही मद्य निषेध विभाग के द्वारा की गई कार्रवाई में 1565 प्रतिवेदित कांड में 1626 लोगों की गिरफ्तारी हुई तथा 71752 लीटर विदेशी, एवं 183357 लीटर देसी शराब जप्त किए गए।

 

 

साथ ही साथ शराब कारोबार से जुड़े 628 वाहनों को भी जप्त किया गया और उनके राजसात की कार्रवाई चल रही है। वही जिले में घटित विभिन्न आपराधिक मामलों में 34 आग्नेयास्त्र, 161 जिंदा कारतूस, 5.9 किलोग्राम गांजा, 9 किलो अफीम तथा 660 ग्राम हीरोइन जप्त किए गए।

 

 

परिवहन विभाग तथा जिले के विभिन्न थानों की पुलिस द्वारा चलाये गए वाहन एवं मास्क जांच अभियान के तहत 9254 वाहनों की जांच में 7205500 रुपये तथा 42546 व्यक्तियों से मास्क जांच के क्रम में 2127300 रुपए जुर्माने की वसूली की गई।

 

 

त्वरित विचारण की कार्रवाई में हत्या के 10 माले आये।इन मामलों की सुनवाई पर न्यायालय के द्वारा 14 लोगों को सजा दी गयी। एनडीपीएस के एक मामले में एक, पॉक्सो के 5 मामलों में पांच, शस्त्र अधिनियम के 2 मामले में तीन लोगों को सजा दी गयी। वही सामान्य विचारण के क्रम में न्यायालय द्वारा हत्या के 9 मामलों में 15, एनडीपीएस के एक मामले में एक, पोक्सो ऐक्ट के 9 मामलों में  10, एससी/एसटी एक्ट में 3 मामलों में 11 तथा विविध के 43 मामलों में 74 अभियुक्तों को सजा सुनाई गई है।

 

एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2022 में बिहार में लागू शराबबंदी को सफल बनाने के लिए जिले में पुलिस और भी सख्त होगी।उन्होंने कहा कि अपराध नियंत्रण तथा जिलेवासियों को सुरक्षित एवं स्वच्छ प्रशासनिक व्यवस्था देने के लिए कई रणनीतियां तैयार की गई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page