औरंगाबाद

सांसद ने आखिर क्यों कहा कि नीतीश कुमार भाजपा के साथ आना चाहते हैं

नीतीश कुमार के बयान अब अपनी विश्वसनीयता खो चुकी है लोगों के लिए वह एक मजाक के रूप में है।क्योंकि बिहार की जनता भी यह जान चुकी है कि पलटू राम का बयान जीरो यानी लड्डू हो गया है।यह बात औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह ने अपने आवास पर शनिवार को आयोजित एक प्रेसवार्ता के दौरान उस वक्त कही जब पत्रकारों ने उनसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा एक बार फिर “मिट्टी में मिल जायेंगे, मगर भाजपा के साथ नही जायेंगे” पर प्रतिक्रिया मांगी।

 

इस सवाल के जवाब को आगे बढ़ाते हुए सांसद ने कहा कि वर्ष 2013 में भी उन्होंने यही बात कही थी।लेकिन फिर क्या हुआ यह बिहार ही नही देश की जनता भी जानती है।क्योंकि बिहार के लोग यह जान चुके हैं कि मुख्यमंत्री जी जो कहते है उसका उल्टा ही करते है।यानी की अभी गठबंधन की सरकार में उनकी जो हैसियत हो चुकी है उससे वह एक बार फिर राजद से पलटी मारकर भाजपा के साथ आने की कोशिश में हैं लेकिन अब भाजपा उनको तरजीह नहीं देने वाली है।

 

सांसद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कई बयानों पर से भी अवगत कराया।सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जब राबड़ी देवी मुख्यमंत्री बनी तो उन्होंने कहा था कि अब इस पद से उनकी रुचि नहीं रही जो कितना हास्यास्पद और मजाकिया है।इसके बाद भी सत्ता से चिपके रहने का लोभ नही खो सके।सांसद ने आगे कहा कि माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी जब शराबबंदी, गिरती कानून व्यवस्था, बालू की माफियागिरी को लेकर कोई बयान देते हैं तो उसे अब बिहार के लोग मजाकिया के रूप में लेते हैं।वो क्या बोलते है इसका अब कोई नोटिस नही लेता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page