औरंगाबाद

चाइल्ड ट्रैफिकिंग की शिकार हुई औरंगाबाद की 16 वर्षीय किशोरी, मामा ने ही राजस्थान जाकर 9 लाख में बेचा,जांच में जुटी पुलिस

औरंगाबाद। भले ही बिहार की पुलिस चाइल्ड ट्रैफिकिंग को लेकर कितना ही सजग क्यों न हो मगर इस व्यवसाय में संलिप्त लोग ऐसे वारदात को करने में सफल हो जाते है और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रह जाती है।इतना ही नहीं इस पीड़ा से गुजर रहे परिजनों की गुहार पर भी कोई कारवाई नही करती और चाइल्ड ट्रैफिकिंग की दूसरी घटना घट जाती।ऐसा ही एक मामला औरंगाबाद जिले के ओबरा थाना क्षेत्र के सदीपुर डिहरी में घटी है।जहां एक मामा ने अपनी 16 वर्षीय भांजी को राजस्थान ले जाकर 50 वर्षीय व्यक्ति के हाथों बेच दिया और इस घटना के चार माह होने को है मगर अभी तक पुलिस प्रशासन के द्वारा कोई कारवाई नही की जा सकी।

 

इस संबंध में किशोरी की मां ने पूरे मामले को विस्तार से बताते हुए एसपी से अपनी बच्ची के सकुशल बरामदगी की गुहार लगाई है।मगर उसकी आवाज नक्कारखाने में तूती की आवाज साबित हुई। एसपी को दिए आवेदन में किशोरी की मां ने बताया है कि उसने अपनी बेटी को अपने ही मां पिता के घर उनके खाना बनाने के लिए छोड़ रखा था। माता पिता के प्यार को देखते हुए मैने उनकी सेवा में अपनी बेटी को लगा दिया था। लेकिन 26 जुलाई को बारुण के लल्लू बिगहा निवासी मेरी बहन ने बताया कि मेरी बेटी 21 जुलाई से ही गायब है। अपनी बेटी के गायब होने की सूचना पर काफी परेशान हो गई। जब इसका पता लगाया तो जानकारी मिली कि मेरी ही बेटी को मेरे ही मां, पिता, भाई और अन्य ने मिलकर राजस्थान के सत्यनारायण अग्रवाल के हाथों बेच दिया है। इस मामले में किशोरी की मां ने 9 लोगों को आरोपित बनाकर कार्रवाई की मांग पुलिस अधीक्षक से की है।

 

 

इस मामले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष के प्रधान निजी सचिव धर्मेंद्र भंडारी ने पीड़िता के आवेदन के आलोक में संज्ञान लेते हुए अपने पत्रांक BR 236793/ 21- 22/जेजे/एनसीपीसीआर/दिनांक 6/ 9/2022 से औरंगाबाद के एसपी को एक पत्र लिखकर कई महत्वपूर्ण जानकारी मांगी है। आयोग ने इस संबंध में एफआईआर की छाया प्रति, नाबालिग पीड़िता का उम्र प्रमाण पत्र, प्रकरण में की गई कार्रवाई जैसे कि पीड़िता की सोशल मीडिया अकाउंट से जुटाई जानकारी, पीड़िता/अभियुक्त की गिरफ्तारी की गई या नहीं कारण सहित प्रकरण में पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई रिपोर्ट, न्यायालय में प्रेषित आरोप पत्र अंतिम/ रिपोर्ट की संख्या की विस्तृत जानकारी पत्र मिलने के 10 दिनों के अंदर मांगी है।

________________________________________________

*चाइल्ड ट्रैफिकिंग की शिकार हुई औरंगाबाद की 16 वर्षीय किशोरी, मामा ने ही राजस्थान जाकर 9 लाख में बेचा,जांच में जुटी पुलिस*

*कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें.यदि हमारा वीडियो पसंद आए तो कृपया लाइक शेयर और कमेंट जरूर करें.*

________________________________________________

इधर किशोरी की बड़ी बहन भी कई दिनों से अधिकारियों को आवेदन देकर कार्यालय दर कार्यालय का चक्कर लगा रही है मगर अभी तक सफलता तो दूर उसके शिकायत पर कोई सुनवाई तक नही हुई।बहन ने बताया कि उसकी बहन को उसके ही मामा ने ही राजस्थान के सत्यनारायण अग्रवाल के हाथों 9 लाख रुपए में बेच दिया और वह उसे वापस लाने के लिए दर दर भटक रही है मगर कही कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page