औरंगाबाद

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने समाज सुधार अभियान के बहाने राज्य में न सिर्फ कोरोना फैलाया,बल्कि जनता की गाढ़ी कमाई से संग्रहित हुई सरकारी कोष का दुरुपयोग किया

औरंगाबाद।एक तरफ जहां मंगलवार को अपने समाज सुधार अभियान के तहत औरंगाबाद आए बिहार के मुख्यमंत्री ने सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ शंखनाद किया वही इस अभियान को लेकर वे विरोधियों के निशाने पर भी हैं।

 

मुख्यमंत्री के समाज सुधार अभियान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए रफीगंज से वर्ष 2020 में विधानसभा उम्मीदवार रहे जिले के प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता प्रमोद कुमार सिंह ने कहा कि इस कोरोना काल मे जहाँ लोगों को भीड़ से बचने की और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के निर्देश दिए जा रहे हैं वही उनके कार्यक्रम में मंच पर ही सोशल डिस्टेनसिंग की धज्जियां उड़ी।मंच पर विराजे मंत्री एवं सचिव स्तर के लोग मास्क से दूरी बनाकर रखे थे।यही कारण है कि मुख्यमंत्री के जाते जाते औरंगाबाद में एक दिन में दस ल9ग कोरोना पॉजिटिव पाए गए और यह संक्रमण इस अभियान के कारण और भी बढ़ेगा जिसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ेगा।

 

श्री सिंह नेकहा कि मुख्यमंत्री के सरकारी जनता दरबार और समाज सुधार अभियान जैसे कार्यक्रम के कारण बिहार में कोरोना फैला क्योंकि
पटना सहित बिहार के अन्य जिलों में आयोजित कार्यक्रम के कारण होटल में रहने वाले लोगो के कारण बिहार के लोग संक्रमित हुए। सरकार ने जो पाबंदी लगाया है वह जनहित में नही है। सरकार इसके लिए गरीब मजदूर लोगो को आर्थिक सहायता की भी व्यवस्था करे। क्योंकि कोरोना में सबसे ज्यादा गरीबों की ही कमर टूटती है।

 

 

श्री सिंह ने कहा कि इस सरकारी अभियान में न सिर्फ सरकारी तंत्र का दुरुपयोग हुआ है बल्कि अघोषित रूप से प्रत्येक जिले में सरकारी खजाने को अघोषित रूप से लूटने का काम किया गया है।यदि यह राशि गरीबों के उत्थान में खर्च किये जाते तो एक जिले में हजारों गरीबों के कल्याण हो जाते,कितनी कन्याओं के हाथ पीले हो जाते।मुख्यमंत्री ने अपनी जिद में जनता के पैसे का दुरुपयोग किया है।राज्य की जनता शराबबन्दी चाहती है।इसके लिए मुख्यमंत्री को अपना तंत्र मजबूत करना चाहिए। न कि आम जनता की गाढ़ी कमाई को ऐसे लुटाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page