औरंगाबाद

औरंगाबाद, देव एवं बारुण प्रखंड में जदयू अध्यक्ष पद के चुनाव में लगा धांधली का आरोप

औरंगाबाद। जिले के विभिन्न प्रखंडों में बुधवार को संपन्न हुए जदयू के सांगठनिक चुनाव के तहत प्रखंड अध्यक्ष पद के लिए कराए गए चुनाव में भारी धांधली बरते जाने का आरोप लगा है और कई प्रखंडों के चुनाव को रद्द करने की मांग पार्टी के राज्य निर्वाचन पदाधिकारी से की गई है।

इस संबंध में सदर प्रखंड के लगभग 50 से अधिक जदयू के क्रियाशील सदस्यों ने राज्य निर्वाचन पदाधिकारी को आवेदन देकर या सूचना दिया है कि सदर प्रखंड के अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए स्थान का निर्धारण कर्मा रोड स्थित जयप्रकाश स्मृति भवन में किया गया था। लेकिन जब उक्त स्थल पर मतदान करने जदयू के कई कार्यकर्ता निर्धारित समय पर गए तो वहां ताला बंद पाया गया। इसकी सूचना जिला पर्यवेक्षक को दी गई। सूचना मिलने के थोड़ी देर बाद उन्होंने यह बताया कि चुनाव स्थल बदलकर नवाडीह रोड स्थित होटल अमन प्लाजा में कर दिया गया है।

 

जानकारी मिलते ही जब सभी क्रियाशील सदस्य होटल अमन प्लाजा पहुंचे तो कैसे नियाजी जो कि अध्यक्ष पद के लिए अपनी उम्मीदवारी प्रस्तुत करने वाले थे उनके द्वारा जब नामांकन पत्र चुनाव के प्रखंड परीक्षक तेजेंद्र सिंह से मांगी गई तो उन्होंने नामांकन पत्र देने से इनकार कर दिया और भद्दी भद्दी गालियां दी जबकि पूर्व से निर्धारित चुनाव स्थल पर करीब डेढ़ सौ क्रियाशील सदस्य उपस्थित थे और उन्हें वोट देने नहीं दिया गया।

इस प्रकार सदर प्रखंड के अध्यक्ष पद के लिए हुए चुनाव में धांधली की सूचना व्हाट्सएप पर पार्टी के कई क्रियाशील सदस्यों को भी दी गई। चुकी जिला पर्यवेक्षक का व्हाट्सएप काम नहीं कर रहा था इसलिए इस मामले की पूरी जानकारी उनके मोबाइल पर फोन कर दी गई। इधर सदर प्रखंड के सभी क्रियाशील सदस्यों ने चुनाव में भारी धांधली बरते जाने का आरोप लगाते हुए रद्द करने की मांग राज्य निर्वाचन पदाधिकारी से की है।

वही जब इस संबंध में प्रखंड पर्यवेक्षक तेजेंद्र सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सदर प्रखंड में कराए गए चुनाव को पूरी पारदर्शी तरीके से संपन्न कराया गया। कहीं कोई धांधली नहीं हुई है और जिनके भी द्वारा ही आरोप लगाए जा रहे हैं बिल्कुल निराधार और बेबुनियाद है। उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में आज यानी बुधवार को सांगठनिक चुनाव कराए गए।पार्टी के राज्य निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा अध्यक्ष पद की उम्मीदवारी के लिए सुबह 10:00 से 11:00 तक का समय निर्धारित किया गया था। लेकिन निर्धारित समय में सिर्फ एक नामांकन राकेश कुमार सिंह का पड़ा था ऐसी स्थिति में उन्हे निर्विरोध सदर प्रखंड के अध्यक्ष पद पर निर्वाचित किया गया।

 

इधर देव और बारुण प्रखंड में भी धांधली का आरोप लगाते हुए चुनाव को रद्द कराने की मांग की गई है देव में जदयू के 58 क्रियाशील सदस्यों के द्वारा एक हस्ताक्षरित आवेदन राज निर्वाचन पदाधिकारी को लिखी गई है जिस में धांधली का आरोप लगाते हुए चुनाव को रद्द करने की मांग की गई है। यहां भी कार्यकर्ताओं ने बताया कि कई दिन से वोटरों की लिस्ट मांगी जा रही थी लेकिन देव के प्रखंड निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा सूची उपलब्ध नहीं कराई गई और ना ही वोटिंग के लिए स्थान बताए गए।

 

बुधवार को जब चुनाव के लिए स्थान की जानकारी राज्य के पदाधिकारियों से पूछी गई तो बताया गया कि मतदान का स्थल देव गोदाम पर निर्धारित किया गया है लेकिन वहां जाने के बाद किसी से मुलाकात नहीं हुई फिर पता चला कि जदयू प्रखंड अध्यक्ष का चुनाव किसी निजी घर में किया जा रहा है ऐसी स्थिति में जितने भी क्रियाशील सदस्य थे वहां नहीं गए और प्रखंड निर्वाचित पदाधिकारी ने धांधली करते हुए अपने ही गांव के व्यक्ति को अध्यक्ष बना दिया।

 

बारुण से प्राप्त सूचना के अनुसार जदयू प्रदेश महासचिव (युवा ) रणधीर सिंह जी ने निर्वाचन पदाधिकारी बिहार से जिले के जदयू प्रखंड स्तरीय चुनाव बारुण प्रखंड के चुनाव को रद्द कराए जाने का आग्रह किया है।उन्होंने बताया कि जदयू के प्रखंड स्तरीय चुनाव में बारुण प्रखंड के बीआरओ रमेश चंद्र पाठक द्वारा दूसरे पक्ष के द्वारा नॉमिनेशन दायर नहीं करने दिया गया। नॉमिनेशन करने की समय सीमा 10 बजे से 11 बजे दिन में निर्धारत की गई थी। पर रमेश चंद्र पाठक 10:20 से 11:05 तक अपनी स्थान पर उपस्थित नहीं थे।

 

बारुण प्रखंड के पर्यवेक्षक सूर्यवंश सिंह से जब नामांकन पर्ची मांगा गया तो उन्होंने देने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि नामांकन बीआरओ देंगे।लेकिन बीआरओ रमेश चंद्र पाठक नामांकन पर्ची देने वाले स्थान पर मौजूद नहीं थे। जब नामांकन का समय खत्म हो गया तब 11:05 में आकर कहा अब नॉमिनेशन नहीं किया जाएगा। जबकि एक पक्ष के करीब 150 मत थे। जदयू के प्रदेश महासचिव युवा के प्रत्याशी सचिन कुमार के पास में करीब 600 क्रियाशील सदस्यों के मत थे। परंतु धांधली कर डेढ़ सौ मत वाले उम्मीदवार को नियुक्त कर दिया गया।

 

बारुण प्रखंड के निर्वाचन पदाधिकारी बीआरओ रमेश चंद्र पाठक एवं पर्यवेक्षक सूर्यवंश सिंह एवं जिला निर्वाचन पदाधिकाई आरओ ओंकार सिंह की मिलीभगत से इस तरह का काम किया गया। रणधीर सिंह ने कहा बहुत सी गलतियां निर्वाचन पदाधिकारी औरंगाबाद एवं बारुण द्वारा किया गया है और रणधीर सिंह ने फोन पर निर्वाचन पदाधिकारी बिहार प्रदेश प्रदेश कार्यालय को भी इसकी सूचना दिया है।

राज्य निर्वाचन पदाधिकारी को दिए गए आवेदन में बड़ाया गया कि 

(1) हम लोगों को वोटर लिस्ट नहीं दिया गया।

(2) हम लोगों को नॉमिनेशन पर्ची नहीं दिया गया।

(3) बिहार प्रदेश द्वारा वोटर लिस्ट जो दिया गया उसमें से हमारे लोगों का नाम चिन्हित कर हटा दिया गया।

(4) रणधीर सिंह जी से दूसरे पक्ष द्वारा हाथापाई एवं अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया।

(5) निर्वाचन पदाधिकारी प्रखंड बारुण बीआरओ रमेश चंद्र पाठक 10:22 से 11:05 तक अनुपस्थित रहे।

(6) बिहार प्रदेश द्वारा वोटर लिस्ट जो रणधीर सिंह ने लाया था उसे नहीं जोड़ा गया।

(7) जिला निर्वाचन पदाधिकारी ओंकार सिंह को कई बार फोन करने पर भी फोन नहीं उठाए।

(8)प्रदेश निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा निर्धारित किया गया था वोटर लिस्ट प्रत्याशी को देना है जो कि B R O देंगे पर नहीं दिया गया इस कारण रणधीर सिंह जी ने बारुण प्रखंड के चुनाव को रद्द करने का आग्रह किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page