औरंगाबाद

नहीं हुआ अमान्य किसी प्रखंड के जदयू अध्यक्ष का निर्वाचन, बोले जदयू डीआरओ

कहा गलत है राज्य निर्वाचन पदाधिकारी की चिट्ठी, दिग्भ्रमित करने की की जा रही है कोशिश

औरंगाबाद। जिले के विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुप में जदयू प्रखंड अध्यक्ष के निर्वाचन से संबंधित एक पत्र तेजी से वायरल हो रही थी जिस पत्र में या उल्लेखित था कि औरंगाबाद मदनपुर और देव के अध्यक्ष के निर्वाचन को अमान्य घोषित कर दिया गया है यह पत्र राज्य निर्वाचन पदाधिकारी जनार्दन प्रसाद सिंह के हस्ताक्षर वाली थी। लेकिन इस पत्र को औरंगाबाद जदयू के जिला निर्वाचन पदाधिकारी ओंकार नाथ सिंह ने गलत साबित कर दिया है और कहा कि राज्य निर्वाचन पदाधिकारी के हस्ताक्षर से वायरल हो रहा पत्र फर्जी है।उन्होंने उक्त पत्र में दिए गए सूचना का खंडन भी किया है।

इमा टाइम से बात करते हुए जिला निर्वाचन पदाधिकारी ओंकार नाथ सिंह ने कहा कि कि बिहार में 38 जिलों का व्हाट्सएप ग्रुप बना हुआ है और प्रदेश से जो भी सूचनाएं निर्गत की जाती है वह व्हाट्सएप में भेजी जाती है। लेकिन औरंगाबाद मदनपुर और देव के चुनाव से संबंधित कोई भी ऐसा पत्र आज व्हाट्सएप ग्रुप में नहीं आया है। उन्होंने कहा कि व्हाट्सएप ग्रुप में शेखपुरा एवं घाट कुसुंबा प्रखंड के निर्वाचन को अमान्य किए जाने से संबंधित पत्र आया है परंतु औरंगाबाद जिले से संबंधित कोई भी पत्र नहीं है।

 

जिला निर्वाचन पदाधिकारी श्री सिंह ने बताया कि व्हाट्सएप ग्रुप में आई चिट्ठी में पत्रांक EL/22/33 दिया गया है।जबकि औरंगाबाद के चुनाव से संबंधित जो पत्र वायरल हो रहा है उसमे भी पत्रांक EL/22/33 ही है जो कभी संभव नही है।इतना ही नहीं दोनों पत्रों के हस्ताक्षर एवं पत्रांक के लिखावट भी अलग है। डीआरओ ने बताया कि औरंगाबाद चुनाव से संबंधित पत्र फोटो स्टेट करके उसे गलत तरीके से प्रिंटिंग कराई गई है और दिग्भ्रमित करने की कोशिश की गई है।

 

DRO ने बताया कि इससे संबंधित बात प्रदेश निर्वाचन पदाधिकारी से भी की गई जिन्होंने भी ऐसे किसी भी पत्र के निर्गत होने की पुष्टि नही की है।ऐसे में औरंगाबाद, देव एवं मदनपुर के निर्वाचन से संबंधित वायरल हो रहे पत्र फर्जी है और वह इसका खंडन करते है।उन्होंने कहा कि तीनो जगह का निर्वाचन अमान्य नही हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page