औरंगाबाद

व्यवहार न्यायालय में बहुप्रतीक्षित ई सेवा केन्द्र का हुआ ई उद्धघाटन

औरंगाबाद। गुरुवार की देर शाम व्यवहार न्यायालय औरंगाबाद अवस्थित ई सेवा केन्द्र का विडियो कांफ्रेंसिंग से उद्घाटन उच्चतम न्यायालय के न्यायमूर्ति मुकेश कुमार रसिक भाई शाह ने किया। जिसमें आनलाईन माध्यम से गरिमामयी उपस्थिति पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायमूर्ति संजय करोल और न्यायमूर्ति सह निरीक्षी जज राजीव राय जी का था।

इस अवसर पर व्यवहार न्यायालय औरंगाबाद परिसर में अवस्थित ई सेवा केन्द्र में जिला जज रजनीश कुमार श्रीवास्तव, प्रधान न्यायाधीश एम पी एम् एल ए अशोक राज, जिला पदाधिकारी सौरभ जोरवाल, आरक्षी अधीक्षक कांतेश कुमार मिश्रा,एडिजे अमित कुमार सिंह, ब्रजेश कुमार पाठक, रत्नेश्वर कुमार सिंह, धनंजय कुमार सिंह, नीतीश कुमार, सहित सभी न्यायिक पदाधिकारी, जिला विधिक संघ औरंगाबाद के अध्यक्ष रसिक बिहारी सिंह महासचिव नागेंद्र सिंह, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष संजय कुमार सिंह सहित अन्य उपस्थित थे।

 

पैनल अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि ई सेवा केन्द्र आम आदमी और उसके न्याय के अधिकार के महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करती है। यह केन्द्र वादकारियों और अधिवक्ताओ को वादों के स्थिति, सुनवाई अगली तिथि, ई कोर्ट सर्विस मोबाइल ऐप से सम्बंधित जानकारी, न्यायाधीशो की छुट्टी, वाद में आदेश और निर्णय की जानकारी सहित अन्य सहायता देगा, ई सेवा केन्द्र में तीन काउंटर और सहायता केंद्र में एक काउंटर बनाए गए हैं।

अधिवक्ताओं और जनता को यह भी जानकारी मिलेगी की आप आनलाईन ई फाइलिंग केसे करेंगे, न्यायालय शुल्क जमा केसे करेंगे, प्रमाणित प्रतिलिपि ओनलाइन प्राप्ति के आवेदन केसे करेंगे, निशुल्क विधिक सहायता प्राप्त करने के लिए क्या आवश्यक है,ई मेल और व्हाट्स से न्यायिक आदेशों और निर्णय का आनलाईन केसे प्राप्त करेंगे, केंद्र का उद्देश्य तकनीक के माध्यम से न्यायिक प्रक्रिया का निपटारा पर जोर देना है,समाज के निचले स्तर तक के व्यक्तियों तक न्याय के पहुंच उपलब्ध कराना है।

साथ ही साथ यह भी प्रयास करना है कि सरल तरीके से लोगों को न्याय सुलभ हो सके, बड़े पैमाने पर लम्बित मामलों के चलते तकनीक के माध्यम से न्यायिक प्रक्रिया का निपटारा पर जोर देना है। ई सेवा केन्द्र के माध्यम से सुदुर ग्रामीण इलाकों में भी बेठे लोग अपने मुकदमा की पुरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। ई सेवा केन्द्र विडियो कांफ्रेंस अदालत की सुनवाई के व्यवस्था करने और अधिवक्ता के माध्यम से आयोजित करने में मदद करता है।

वरचुअल अदालतों में वादों का तेजी से निष्पादन कराता है। इसके माध्यम से ई हस्ताक्षर, ई स्टंप पेपर, ई पेमेंट की सुविधा है। आधार आधारित डिजिटल हस्ताक्षर के लिए आवेदन करने और प्राप्त करने में सहायक है। जेल में रिश्तोंदारो से मुलाकात के लिए ई मीटिंग के बुकिंग में सहायक है। आपको मालूम कि न्याय तक त्वरित पहुंच प्रदान करना न्यायालय का उद्देश्य है।

आधुनिक डिजिटल सेवाओं के लाभ उठाने से वादियों और अधिवक्ताओ का मैन्युअल फाइलिंग के तुलना में बहुत आसानी से अपने मामले की दर्ज करने में मदद मिलेगी। न्यायालय में वादों के सुनवाई के दौरान जो अगले तिथि के जानकारी लेने के लिए, निर्णय जानने के लिए जो भीड़ लगी रहती थी उसमें कमी आएगी और बड़ी संख्या में अधिवक्ता और मुवक्किल ई सेवा केन्द्र के लाभ लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page