औरंगाबाद

रफीगंज में फिर चिकित्सक की लापरवाही से गई एक मरीज की जान, लोजपा नेता प्रमोद सिंह ने की कार्रवाई की मांग

संदीप की रिपोर्ट

औरंगाबाद। रफीगंज में निजी नर्सिंग होम का कहर सर चढ़कर बोल रहा है। सोमवार की रात्रि ऐसे ही एक नर्सिंग होम संकल्प हॉस्पिटल के चिकित्सकों द्वारा एक व्यक्ति की जान ले ली गई।हादसे के बाद हॉस्पिटल के चिकित्सक एवं कर्मी फरार हो गए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के नोनिया टिहला स्थित संकल्प हॉस्पिटल में सोमवार की रात्रि में चरकावा निचली डीह निवासी महेश चौधरी की इलाज के दौरान मौत हो गई। आक्रोशित परिजनों ने हॉस्पिटल में जमकर हंगामा किया। मृतक के भाई मुन्ना चौधरी ने बताया कि सोमवार की शाम 5 बजे महेश की अचानक तबीयत खराब होने पर आनन-फानन में संकल्प हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

 

डॉ संतोष कुमार के द्वारा इलाज की गई। चिकित्सक ने आश्वासन दिया कि घबराने की बात नही आपका मरीज ठीक हो जाएगा। लेकिन सोमवार की ही रात्रि 11 बजे भाई की हालत खराब होने लगी। हालत गभीर होते ही कहा गया कि जब परेशानी है तो रेफर कर दिया जाए। लेकिन चिकित्सक ने पैसे ऐंठने के लालच में रेफर नही किया और 11:30 बजे इलाज दौरान ही उसकी मौत हो गई।

मुन्ना ने बताया चिकित्सक डॉ संतोष काफी नशे में थे और उसी स्थिति में इलाज कर रहे थे। बोलने पर डपट दे रहे थे और नशे की हालत में लापरवाही की गई जिससे मरीज की जान चली गई। जब भाई की मौत हो गई तब हॉस्पिटल के लोगों ने रेफर किया। मरीज की मौत के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया और हंगामे के कारण वहां के चिकित्सक डॉ संतोष कुमार फरार हो गए।

 

सूचना मिलते ही लोजपा(रामविलास) के वरिष्ठ नेता प्रमोद कुमार सिंह मंगलवार की सुबह हॉस्पिटल में पहुंचकर मृतक के परिजनों से मिलकर मदद करने का आश्वासन दिया और ऐसे नर्सिंग होम को तत्काल बंद कर दोषी चिकित्सक पर कारवाई की मांग जिला एवं पुलिस प्रशासन से किया।उन्होंने कहा कि जब अवैध तरीके से चल रहे निजी नर्सिंग होम पर स्वास्थ्य विभाग कारवाई कर रही है तो क्या कारण है कि रफीगंज में कुकुरमुत्ते की तरह जानलेवा नर्सिंग होम चल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page