औरंगाबाद

धूमधाम से मना गोकुल सेना का नवां स्थापना दिवस समारोह, कई कार्यों को लेकर संकल्पित हुए कार्यकर्ता

औरंगाबाद। गोकुल सेना का 9 वा स्थापना दिवस समारोह शहर के सत्येंद्र नगर में धूमधाम से मनाया गया। समारोह का उद्घाटन संस्था के अध्यक्ष संजीव नारायण, संरक्षण संजय सज्जन सिंह, वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर विजय कुमार सिंह, डॉ प्रो जितेंद्र नारायण सिंह, शिव नारायण सिंह, अरविंद सिंह, बबलू कुमार एवं कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आरटीआई कार्यकर्ता संतन सिंह ने संयुक्त रूप से किया।

 

 

सभा की अध्यक्षता कर रहे हैं संजीव नारायण ने कहा कि गोकुल सेना विगत 9 वर्षों में बिना सरकार के मदद के बूढ़ा – बूढ़ी बांध का निर्माण कराई , उत्तर कोयल नहर परियोजना के लिए कोर्ट से लडकर 1622 करो रुपए की स्वीकृति दिलाई । सुंदरगंज में पुल निर्माण एवं शराबबंदी के लिए आन्दोलन जैसे अनेक महान कार्य की हैं। सेना आगे एक वर्ष में कूट-कूट डैम में फाटक लगाने का कार्य पूर्ण कराने के लिए संघर्ष करेगी।

 

 

अदरी नदी की सफाई के लिए एवं अविरलता के लिए संघर्ष करेगी। निरंजना नदी गया को अविरल बनाने के लिए निरंतर प्रयास करेंगी एवं नवीनगर में एक विश्वस्तरीय विश्वविद्यालय निर्माण के लिए आगे संघर्ष करने वाली है। इस अवसर पर संरक्षक संजय सज्जन में कहा की निरंजना नदी जो गया में फल्गु नदी हो गई है उसको अविरल बनाने के लिए हम लोग प्रयास कर रहे हैं।इस काम को कुछ वर्षों में अंजाम तक पहुंचाया जाएगा।

 

 

प्रो विजय कुमार सिंह ने गोकुल सेना के कार्यों को महान बताते हुए कहा कि अगर गोकुल सेना नहीं होती तो बूढ़ा बूढ़ी जैसा बांध नहीं बनता, और 43 गांव में आज भी भीषण सूखा रहता।जहां बालूगंज के क्षेत्र में ट्रक से धान की बिक्री हो रही है।इस अवसर पर प्रोफेसर ज्ञान सिंह ,किसान नेता भागीरथी सिंह, प्रोफेसर ओम प्रकाश कुमार, पूर्व शिक्षक देवबंश सिंह, अनन्त कुमार, विकास प्रताप, प्रदीप कुमार, निर्भय कुमार, जगदीश सिंह, धनंजय सिंह, योगेंद्र कुमार सिंह, अभिषेक कुमार सिंह, सन्तोष सावंत, प्रदीप कुमार, कुन्दन कुमार उपस्थित थे। सभा का संचालन शुभम् कुमार ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page