औरंगाबाद

भूकंप सुरक्षा सप्ताह के अंतर्गत उर्दू मध्य विद्यालय बहुआरा को किया गया जागरूक

औरंगाबाद। जिलाधिकारी सौरभ जोरवाल के निर्देश पर जिले में भूकंप सुरक्षा सप्ताह अंतर्गत सदर प्रखंड के उर्दू मध्य विद्यालय बहुआरा के शिक्षकों द्वारा बुधवार को विद्यालय के पोषक क्षेत्र में जागरूकता भ्रमण कार्यक्रम किया गया।

 

 

गौरतलब है कि जिलाधिकारी ने सोमवार को जिले के शिक्षकों के साथ वर्चुअल मीटिंग में भूकंप सुरक्षा सप्ताह मनाने का निर्देश दिया था। इसी कड़ी में विद्यालय के हेडमास्टर धर्मेंद्र कुमार सिंह तथा वरीय शिक्षक राजकुमार प्रसाद गुप्ता के नेतृत्व में शिक्षकों का दो ग्रुप बना कर पोषक क्षेत्र का भ्रमण कर लोगों को भूकंप से बचाव हेतु जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण औरंगाबाद से प्राप्त पोस्टर का वितरण किया गया। शिक्षक सरफराज आलम, मो0 कलामुद्दीन, विजय पासवान, मो0 कुनैन, मो0 शाहजहां तथा तरन्नुम प्रवीण ने लोगों को भूकंप से बचाव के बारे में बताया।

 

 

साथ ही इन शिक्षकों ने गली मोहल्लों में पोस्टर भी चिपकवाएं। पोस्टर वितरण तथा पोस्टर चिपकाने के कार्य में विद्यालय के रसोइया सुमित्रा देवी, शीला देवी, किस्तमंती कुंवर तथा खोदैजा खातून ने मुख्य भूमिका निभाई। शिक्षकों ने उपस्थित ग्रामीणों को भूकंप से पहले, भूकंप के समय तथा भूकंप रुकने के बाद क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए के बारे में बताया।

 

 

इसके साथ ही जिले में जारी शीतलहर के प्रकोप से बचाव हेतु भी सभी को बताया गया। शीतलहर से मानव तथा पशुओं के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है इसलिए सभी को बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा जनसाधारण हेतु जारी सलाह या निर्देश को मानना चाहिए।

 

 

बताया गया कि औरंगाबाद जिला भूकंप के खतरनाक जोन में तो नही आता है फिर भी सभी को सतर्क रहना चाहिए। भूकंप से लोग नही मरते हैं बल्कि भूकंप में कमजोर भवनों के ढहने, हड़बड़ी में इधर उधर भागने, पैनिक होने से होती है। भूकंप से होने वाली हानि को कम करने के लिए भवनों को भूकंप रोधी बनवाना चाहिए तथा वर्तमान भवनों को भूकंप के दृष्टि से सुदृढ़ करें।

 

 

इसके अतिरिक्त भ्रमण के दौरान लोगों को कोरोना गाइडलाइन का पालन करने तथा 15 से 18 वर्ष के बच्चों को कोरोना का वैक्सीन लेने के लिए भी प्रोत्साहित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page