औरंगाबाद

बालू घाट पर लूटपाट के दौरान हथियारबन्द अपराधियों ने गोली मारकर की एक की हत्या, एक घायल

औरंगाबाद।जिले में बालू घाट पर थम चुकी विवाद ने शुक्रवार की देर रात न सिर्फ हिंसक रंजिश की गवाह बनी बल्कि वर्चस्व की जंग में हुई गोलीबारी में एक की मौत हो गयी।जबकि इस हिंसक झड़प में एक गंभीर घायल हो गया।घटना दाउदनगर स्थित नानू बिगहा गांव की है।

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार नानू बिगहा गांव में देर रात लगभग डेढ़ बजे हथियार बन्द बालू माफियाओं ने ब्लोक चेन कम्पनी के दो लोगों को गोली मार दी।जिसमें मोहनियां के बघनी निवासी अनिल कुमार गुप्ता की मौत हो गयी और रोहतास सियांवक निवासी आनंद कुमार घायल हो गए।इस दौरान काफी मात्रा में कैश के लूटपाट की भी सूचना सामने आ रही है।

 

जानकारी देते हुए दाउदनगर के प्रभारी अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी नव वैभव ने बताया कि घटना की सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए औरंगाबाद सदर अस्पताल भेजा है एयर घायल हुए घाट के कर्मी का इलाज कराया जा रहा है।प्रभारी एसडीपीओ ने बताया कि हत्या के पीछे बारुण के केशव घाट से जुड़ी कुछ पूर्व के विवाद की बातें भी सामने आ रही है जिसकी जांच की जा रही है और इसमें शामिल संदिग्ध व्यक्तियों की गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिए गए हैं।

 

इसके साथ साथ अन्य कई बिंदुओं पर भी पुलिस अनुसंधान कर रही है।उन्होंने बताया कि घटना को उस वक्त अंजाम दिया गया जब घाट पर सभी सोए हुए थे।इधर घटना के बाद से घाट के कर्मियों ने बगल के घाट संचालक की संलिप्तता की बात भी पुलिस को बताई है जिसकी भी जांच की जा रही है।प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती रात दस से बीस की संख्या में हथियारबन्द लोग घाट पर पहुंचे और कैश की मांग की।कैश के समीप बैठे युवक ने कैश की बॉक्स उन्हें थमा दी।इसी बीच हल्ला सुनकर आनंद उर्फ मुन्ना की नींद खुल गयी और उसने शोर मचाया तभी हथियार बन्द अपराधियों ने गोली चला दी जो मुन्ना के बांह में लगी।दूसरी गोली सोए हुए अनिल को लगी जिससे उसकी मौत हो गयी।गोलीबारी की घटना के बाद घाट पर मची अफरा तफरी को देखते हुए आए अपराधियों ने फायरिंग करते हुए भाग निकले।

 

हालांकि इस घाट से जुड़े कर्मियों ने बताया कि तीन दिन पूर्व बगल के घाट के साथ रास्ता को लेकर विवाद हुआ था और उस विवाद को दाउदनगर अनुमण्डल पदाधिकारी, अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी, अंचलाधिकारी सहित अन्य वरीय अधिकारियों के नेतृत्व में दोनों पक्षों के बीच समझौता हुआ और दोनों ने सहमति जताते हुए अपने हस्ताक्षर बनाएं।लेकिन ठीक तीसरे दिन घटना को अंजाम दिया गया।इस मामले में घाट के कर्मियों ने बताया कि घटना में तीन लोगों की संलिप्तता की जानकारी पुलिस को दी गई है लेकिन अभी तक उनकी गिरफ्तारी नही की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page