औरंगाबाद

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के साथ हरिओम कॉमर्स ने परीक्षार्थियों को दिया एग्जाम ब्रेक

शहर के महराजगंज रोड स्थित हरिओम कॉमर्स में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत रविवार को सुभाषचंद्र बोस ‘नेताजी’ की 125वीं जयंती मनाने के साथ बिहार बोर्ड द्वारा प्रायोजित आगामी बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों को एग्जाम ब्रेक दिया गया। कार्यक्रम की शुरुआत नेताजी की तस्वीर पर माल्यार्पण कर हुई तत्पश्चात संस्थान के निदेशक अनिल कुमार सिंह ने वहाँ उपस्थित छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के कारण शिक्षण संस्थान बन्द होने से छात्रों की पढ़ाई अधूरी न रह जाये इसके लिए संस्थान ने कई पहल किये हैं जिसका परिणाम है कि सभी छात्रों की पढ़ाई न केवल ससमय पूर्ण हुई अपितु संस्थान द्वारा आयोजित प्रैक्टिस टेस्ट सीरीज के जरिये सभी छात्रों ने अपना स्वतः परीक्षण भी किया है।

 

 

हमें बेहद खुशी है कि सभी ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है, ये आप सब की मेहनत का प्रतिफल है। अगले कुछ दिनों तक अपने घर पर रहकर संयमित तरीके से एक आदर्श दिनचर्या का पालन करते हुए परीक्षा की जमकर तैयारी करें। अंकों के दबाब से तनावग्रस्त होने के बजाय जो संस्थान द्वारा जो रणनीति बताई गई है, उसका अनुकरण करें तो परीक्षा परिणाम अवश्य ही अभूतपूर्व होगा। संस्थान की मेंटर रानी कुमारी सिंह ने छात्रों को आगामी बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले बच्चों को शुभकामनाएं दी और कहा कि सच्चे लग्न और कड़ी मेहनत से संसार में कुछ भी पाना असंभव नहीं है, बस जरूरत है तो अपने लक्ष्य के प्रति हमेशा जागरूक रहने की।

 

 

अनिल कुमार सिंह ने आगे बताया कि देश व समाज के लोगों को स्वतंत्रता संग्राम के सही इतिहास से रूबरू कराना बेहद जरूरी है। यदि आज सही इतिहास की जानकारी समाज को नहीं दी जाएगी तो आने वाली पीढ़ी इससे अनभिज्ञ रहेगी। सभी कगतरों ने संस्थान के शैक्षणिक वातावरण, अनुशासन, पठन-पाठन और शिक्षकों के मित्रवत व्यवहार और कार्यशैली की एकमुख से प्रशंषा की और परीक्षा में अच्छे अंक लेन का भरोसा भी दिया।

 

इस मौके पर निशा कुमारी सिंह, रानी, सत्यम राठौर और टेस्ट परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करने वाले टॉप 5 छात्र शामिल रहे, बाकी छात्रों को वर्चुअल मीटिंग के जरिये संबोधित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page