औरंगाबाद

सुभाष चन्द्र बोस की 125 जयंती पर श्री सरस्वती सुशोभित समिति ने आयोजित किया निशुल्क नेत्र जांच शिविर,250 लोगों की हुई जांच,80 मिले मोतियाबिंद के मरीज

औरंगाबाद। शहर की सामाजिक संस्था श्री सरस्वती सुशोभित समिति के कार्यकर्ताओं द्वारा सुभाष चंद्र बोस जी की 125 वीं जयंती के अवसर पर काली कीर्तन संघ के प्रांगण में निशुल्क स्वास्थ्य नेत्र जांच शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ नगर परिषद के अध्यक्ष उदय गुप्ता,श्री सरस्वती सुशोभित समिति के अध्यक्ष नवीन सिन्हा,श्री सरस्वती आराध्य समिति के अध्यक्ष पंकज वर्मा ने की। आयोजित शिविर में आसपास के मुहल्ले से पहुंचे सैकड़ों लोगों का नि:शुल्क इलाज किया गया तथा मरीजों को मुफ्त दवाएं दी गयी।

 

 

नगर परिषद अध्यक्ष उदय गुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि श्री सरस्वती सुशोभित समिति संस्था समाज सेवा की भावना को मूर्तरूप देने का कार्य करता आ रहा है। समाज हित के लिए यह एक सराहनीय पहल है। वही इस मौके पर नवीन सिन्हा में बताया कि मनुष्य जीवन में मानव सेवा ही धर्म का मुख्य आधार है। उन्होंने बताया कि शिविर के माध्यम से कुल 225 लोगों का मुफ्त इलाज किया गया। साफ सफाई एवं खान पान पर विशेष ध्यान देने की सलाह देते हुए उचित आहार लेने को कहा गया।उन्होंने बताया कि 225 लोगों के नेत्र जांच में 80 लोग मोतियाबिंद से पीड़ित मिले जिनका ऑपरेशन निशुल्क कराया जाएगा। कहा कि विगत कई वर्षों से हमारी संस्था निशुल्क नेत्र जांच शिविर का आयोजन कर रही है।

 

 

आंखों को शरीर का अभिन्न व अति महत्वपूर्ण अंग बताते हुए समिति के आदित्य श्रीवास्तव ने कहा कि आंखों का विशेष ध्यान रखें तथा समय समय पर विशेषज्ञ डॉक्टर से जांच कराते रहें।क्योंकि आंखों के बिना जीना बहुत ही मुश्किल हो जाता है।संस्था द्वारा वर्ष में एक बार इस शिविर का आयोजन किया जाता है। मानव हित की रक्षा करना देश के हर नागरिक का कर्तव्य बनता है।

 

 

इस मौके पर रेडक्रॉस के सचिव दीपक कुमार, श्री कालिका कीर्तन संघ से बीरेंद्र कुमार सिन्हा, मधुसूदन ठाकुर,सचिन सिन्हा, रंजीत कुमार, अरुण कुमार, जयनंदन पांडे,अजय कुमार, संजीव कुमार, ओम प्रकाश कुमार, प्रभात कुमार, सौरभ राज, रोशन मिश्रा, रितिक कुमार, निक्कू सिन्हा, विकेश कुमार, पिंटू गुप्ता, ऋषि कुमार सहित कई अन्य लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page