औरंगाबाद

जिले को अकालग्रस्त क्षेत्र घोषित करने की मांग को लेकर किसानों का धरना

औरंगाबाद।जिले में बारिश नहीं होने से किसान परेशान है।बारिश नही होने के कारण रफीगंज, मदनपुर, देव, नबीनगर, औरंगाबाद प्रखंड में धन की खेती नहीं हो पाई है और जिला अकाल का सामना करने को मजबूर है।ऐसे में जिले को अकलग्रस्त क्षेत्र घोषित करने की मांग को लेकर अंचल सह प्रखंड कार्यालय रफीगंज परिसर में गुरुवार को किसान मजदूर मोर्चा के बैनर तले एक दिवसीय धरना का आयोजन किया गया।

धरना में किसानों की समस्याओं एवं कुटकु डैम में फाटक लगाने का मुद्दा छाया रहा।वक्ताओं ने कहा कि मगध क्षेत्र की धरती पर बारिश नही होने पर महाअकाल हो गया।धरने के माध्यम किसानों ने से सरकार से औरंगाबाद जिले को अकालग्रस्त क्षेत्र घोषित करते हुए किसानों को समुचित लाभ दिलाने की मांग की।

किसानों ने कहा कि वर्ष 2014 की लोकसभा चुनाव के दौरान उस वक्त एनडीए के प्रधानमंत्री के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने सरकार गठन के बाद उत्तर कोयल नहर के कुटकु डैम में फाटक लगाकर किसानों के खेतों में लाल पानी पहुंचाने का वादा किया था।सरकार पांच साल चली।फिर 2019 के चुनाव में के दौरान ही प्रधानमंत्री के द्वारा उत्तर कोयल नहर के कार्य का शिलान्यास भी किया गया।

लेकिन आज तक कार्य पूरा नहीं हुआ और किसान आकाल की विभीषिका झेल रहे हैं।किसानों ने कहा कि इसके अलावा अंगरा ,कोटवारा चैई, नवादा ब्रांच के कार्य भी अधूरे हैं और राज्य सरकार द्वारा इसे पूर्ण नहीं किया गया।जिसके कारण किसानों के हजारों एकड़ भूमि असिंचित रह जा रही है।धरने के माध्यम से सरकार सभी अधूरे कार्य को पूरा कराकर हर हाथ को काम और हर खेत को पानी देने का गारंटी ले।

इतना ही नहीं उत्तर कोयल नहर के अधूरे कार्य को पूरा करने के लिए राज्य के हिस्से की राशि समय पर भुगतान करके अधूरे कार्य को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार पर राज्य दबाव बनाये। किसान नेताओं ने किसानों को खेती करने के लिए बिजली की गारंटी देने,शिविर लगाकर सभी लाभार्थी किसान एवं मजदूरों को राशन कार्ड हाथों हाथ देने की भी मांग की।

धरना के बाद प्रतिनिधि मंडल ने अपनी मांगों का ज्ञापन रफीगंज बीडीओ को सौंपा। धरना की अध्यक्षता लड्डू खान एवम संचालन डॉ शिवनंदन प्रसाद ने किया। इस मौके पर तुलसी यादव,भोला प्रसाद वर्मा,लक्ष्मण यादव,जयप्रकाश प्रजापति, बिरेन्द्र प्रसाद,डॉ मुसाफिर यादव, लालधारी यादव,चंद्रशेखर प्रसाद यादव,कामेश्वर यादव,पारस यादव आदि किसान उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page