औरंगाबाद

रक्तदान के अब तक के सारे रिकॉर्ड हुए ध्वस्त, मुस्लिम समुदाय के सहयोग से 134 लोगों ने किया रक्तदान

औरंगाबाद। हसपुरा के अमझर शरीफ में सैयदना दादा के उर्स के मौके पर स्थानीय लोगों के सहयोग से भारतीय रेडक्रॉस सोसाइटी और रोटरी क्लब के संयुक्त तत्वाधान में स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। इस रक्तदान शिविर ने जिले मेवन तक के हुए सभी रिकॉर्ड को ध्वस्त कर दिया।आज आयोजित रक्तदान शिविर में मुस्लिम समुदाय के 134 लोगों ने रक्तदान कर समाज को एक बड़ा और बेहतर संदेश देने का काम किया है।

आज हुए रक्तदान शिविर के प्रति स्थानीय लोगों का उत्साह चरम पर था। लोगों ने स्वेच्छा से रक्तदान किया। रेडक्रॉस के अध्यक्ष सतीश कुमार सिंह ने कहा कि यहां पर संस्था के द्वारा रक्तदान शिविर लगाने के बाद यह अनुभूति हुआ कि रक्तदान के प्रति युवाओं में जागरूकता बढ़ी है। उन्होंने कहा कि रक्त बनाया नहीं जा सकता है और इसे दान कर किसी जरूरतमंद का जीवन बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए सब लोगों को आगे आकर रक्तदान करना चाहिए और अन्य लोग जो इससे हिचकते हैं उन्हें जागरूक करना चाहिए।इस मौके पर स्थानीय समाजसेवियों ने  रेडक्रॉस के अध्यक्ष सतीश कुमार सिंह को सम्मानित भी किया।

शिविर में उपस्थित रेडक्रॉस के उपाध्यक्ष और रोटरी क्लब के अध्यक्ष मरगुब आलम ने कहां कि आगे भी इसी प्रकार जिला।मुख्यालय से बाहर भी रक्तदान शिविर का आयोजन कर रक्त की कमी को दूर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि रेडक्रॉस का एकमात्र उद्देश्य है कि जिले में रक्त की कमी नही रहे।ताकि रक्त की कमी से जूझ रहे जरूरतमंद को आसानी से हर ग्रुप का रक्त उपलब्ध हो सके।

इस स्वैच्छिक रक्तदान शिविर में अमझर शरीफ के जमालुद्दीन आबिद कादरी का योगदान बहुत ही महत्वपूर्ण रहा। गदी नसीह एवं नैयर कादरी द्वारा स्थानीय युवाओं का लगातार उत्साहवर्धन किया जाता रहा।यही कारण था कि इतनी ज्यादा संख्या में लोगों ने रक्तदान किया।

इस रक्तदान शिविर को सफल बनाने में महमूद आलम, दीपक कुमार, खुर्शीद अहमद, सिकंदर हयात, रेडक्रॉस के टेक्नीशियन अमित कुमार, द्वारिका जायसवाल, शत्रुघन कुमार, रवि कुमार, गुड्डू कुमार, सैयद फैजान कादरी, मोहम्मद उमर कुरेशी, सैयद तबरेज कादरी, मोहम्मद हुसैन कादरी, सैयद आरिफ कादरी का अहम योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page