औरंगाबाद

शहर के सब्जी मंडी समीप स्थित नौजादिक कॉम्प्लेक्स के साड़ी सेंटर में लगी भीषण आग,करोड़ों के नुकसान का अनुमान

इंडियन बैंक को भी पहुंची क्षति,नुकसान के आंकलन में जुटे अधिकारी

औरंगाबाद। शहर के मुख्य बाजार सब्जी मंडी के नौजदिक कॉम्प्लेक्स स्थित कन्हाई साड़ी सेंटर और इंडियन बैंक में सोमवार की देर रात आग लग गई। इस अगलगी की घटना में जहां साड़ी सेंटर में करोड़ों की साड़ियों के जल जाने का अनुमान है। वही इससे बैंक को भी काफी क्षति होने का अनुमान है।लेकिन कितनी क्षति हुई है उसका आंकलन बैंक के खुलने के बाद ही पता चल सकता है।

बताया जाता है कि सब्जी मंडी के समीप नौजादिक कम्प्लेक्स में अवस्थित कन्हैया साड़ी सेंटर में रात्रि 10:30 में आग लगने की खबर तेजी से बाजार में फ़ैल गई। धीरे धीरे इस आग ने बैंक को भी अपनी चपेट में ले लिया। अगल्गी की सूचना मिलते ही इंडियन बैंक के अधिकारी और कन्हैया साड़ी सेंटर के मालिक अनील कुमार गुप्ता सहित मार्केट के अधिकांश व्यवसायी रात्रि में ही घटनास्थल पहुंचे और आग बुझाने में जुट गए।

लेकिन आग की लपट इतनी तेज होते गई कि सबों के प्रयास विफल रहे। घटना की सूचना मिलते ही नगर थानाध्यक्ष पीके सैनी एवं सदर अनुमंडल पदाधिकारी श्री विजयंत एक्टिव हो गए और उनके द्वारा शीघ्र ही दमकल की गाड़ियां भेजी गई। तब जाकर काफी मशक्कत के रात्रि लगभग 3 बजे आग पर काबू पाया गया। तब तक कन्हैया साड़ी सेंटर पुरी तरह से जल कर राख हो गया।

इस मामले में साड़ी सेंटर के मालिक अनिल कुमार गुप्ता ने बताया कि इस घटना से उनके तीन से चार करोड़ की साड़ियां जल कर राख हो गई है और वे पुरी तरह बर्बाद हो गये है। आग कैसे लगी इसका कारण पता नहीं चल पाया है। वहीं बैंक अधिकारी एवं बैंक मैनेजर ने बताया कि उनके बैंक के खिड़की, दीवार और कुछ कागजात जले है नुकसान का आकलन 10:30 पर बैंक खुलने पर ही पता चलेगा।

इस दौरान कम्प्लेक्स के अधिकांश व्यवसायी अपने अपने प्रतिष्ठान के सुरक्षा को लेकर काफी आशंकित रहे।इस अग्लगी की घटना के दौरान थानाध्यक्ष की भूमिका की भी स्थानीय लोगों ने काफी सराहना की।लोगो ने बताया कि यदि थानाध्यक्ष बैंक अधिकारियों पर दबाव बनाकर बैंक न खुलवाते और बैंक की तरफ से आग बुझाने का कार्य नहीं करवाते तो कई दुकान इस भीषण आग की चपेट में आ जाते।

गौरतलब है कि इससे पूर्व भी कन्हैया साड़ी सेंटर में अगलगी की घटना घट चुकी है और उस दौरान भी लगभग 40 लाख का नुकसान हुआ था और उस वक्त भी काफी मशक्कत एवं स्थानीय और प्रशासनिक सहयोग से आग पर काबू पाया गया था। उसके बाद जिला प्रशासन के द्वारा आगलगी से बचाव के लिए शहरवासियों को प्रचार प्रसार के माध्यम से जागरूक किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page