औरंगाबाद

आवास योजना में भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारियों एवं आवास सहायकों पर सख्त हुआ जिला प्रशासन, डीएम ने कार्रवाई कर बर्खास्तगी का दिया निर्देश

औरंगाबाद। सोमवार को जिला पदाधिकारी महोदय द्वारा विभिन्न स्त्रोत से प्राप्त प्रधानमंत्री आवास योजना में नए नाम जोड़ने के संबंध में प्राप्त आपत्तियों की जांच के संबंध में पूर्व निर्धारित समीक्षा बैठक की गई। प्रत्येक सोमवार को होने वाली समन्वय बैठक में प्राप्त आवेदन एवं लंबित जांच प्रतिवेदन पर चर्चा की जाती है।

 

 

उप विकास आयुक्त महोदया द्वारा बताया गया कि प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों के साथ हुई गत बैठक में यह स्पष्ट निर्देश दिया गया था कि यदि जिले में किसी प्रकार की गड़बड़ी की सूचना मिलती है तो आवास सहायक के विरुद्ध बर्खास्तगी एवं प्राथमिकी की कार्रवाई तो की ही जायेगी, संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी को भी दोषी मानते हुए उनके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई को अनुशंसा की जाएगी। इसके बाद भी जिले में 4 अनियमितता संबंधी शिकायत प्राप्त हुई है। चारो शिकायत कुटुंबा, गोह, औरंगाबाद एवं बारुण प्रखंड से है। सभी शिकायतों में जांच टीम को एक सप्ताह का समय अपना प्रतिवेदन देने के लिए दिया गया था। इस सप्ताह प्रतिवेदन के आलोक में कार्रवाई कर दी जाएगी।

 

 

उप विकास आयुक्त द्वारा बताया गया कि चापुक, गोह के आवास सहायक, रामजनम सिंह के विरूद्ध प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) सूची में नाम जोड़ने के एवज में अवैध मांग किए जाने की शिकायत प्राप्त हुई है। जिला पदाधिकारी द्वारा तुरंत प्रभाव से उक्त आवास सहायक को कार्य से अलग रखने का निदेश दिया गया। साथ ही यदि जांच प्रतिवेदन में शिकायत सही पाई जाती है तो बर्खास्तगी की कार्रवाई करने का निदेश दिया गया।

 

 

उप विकास आयुक्त द्वारा बताया गया कि कुटुम्बा प्रखण्ड के पंचायत भरौंधा में ग्राम-कुसमा बसडिहा अमरपुर में आवास योजना में समृद्ध लोगों का नाम सूची में जोड़े जाने की सूचना प्राप्त हुई है। औरंगाबाद प्रखण्ड के ग्राम पंचायत-कर्मा भगवान में भी इसी प्रकार को सूचना प्राप्त हुई है। दोनो मामले प्रथम दृष्टया सही प्रतीत होते हैं जिसमे संबंधित आवास सहायक को कार्यमुक्त किया जा रहा है एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी कुटुंबा एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी औरंगाबाद के विरुद्ध भी स्पष्टीकरण पूछते हुए प्रपत्र क गठित करने की कार्रवाई की जा रही है।

 

 

उप विकास आयुक्त द्वारा बारूण प्रखण्ड के खैरा पंचायत के आवास सहायक श्री जय कुमार के विरुद्ध भी शिकायत प्राप्त होने की जानकारी दी गई हैं जिसमे साक्ष्य की मांग गई है। उप विकास आयुक्त द्वारा कहा गया कि उक्त सभी प्राप्त शिकायत/परिवादों की जांच करायी जा रही है। जांच प्रतिवेदन प्राप्त होने पर दोषी पाये जाने वाले कमियों/पदाधिकारियों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 

 

जिला पदाधिकारी द्वारा अपर समाहर्ता एवं उप विकास आयुक्त को निदेश दिया गया कि अंचलाधिकारी एवं प्रखंड विकास अधिकारी के साथ अपर समाहर्ता एवं उप विकास आयुक्त की साप्ताहिक बैठक में स्पष्ट निर्देश दें कि हाल ही में 4 हल्का कर्मचारी एवं 2 पंचायत सचिव को निलंबित करते हुए विभागीय कार्रवाई प्रारंभ की गई है तथा 2 कर्मियो को बर्खास्त भी किया गया है। 2 पूर्व अंचलाधिकारी के विरुद्ध प्रपत्र क गठित कर विभाग को अनुशासनिक कार्रवाई प्रारंभ करने की अनुशंसा की गई जिसमे विभागीय कार्रवाई प्रारंभ भी हो चुकी है। एक प्रखंड विकास पदाधिकारी को आयोग द्वारा हटाया गया है तथा जिले की अनुशंसा पर एक अंचलाधिकारी को भी हटाया गया है।

 

 

 

वर्तमान में 11 प्रखंड में 10 अंचलाधिकारी एवं 10 प्रखंड विकास पदाधिकारी ही कार्यरत है। ऐसे में भी यदि प्रखंड कार्यालय के विरुद्ध किसी प्रकार की शिकायत मिलती है और जिला स्तर की जांच कमेटी द्वारा शिकायत सही पाई गई तो संबंधित प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी को भी दोषी समझा जायेगा। प्रधान मंत्री आवास योजना जैसी स्कीम अत्यंत निर्धन व्यक्तियों के लिए बनी योजना है जिसमे प्रखंड विकास पदाधिकारी का सतत पर्यवेक्षण अत्यंत आवश्यक है। सभी दोषी आवास सहायक को बर्खास्तगी का निर्देश देते हुए जिला पदाधिकारी द्वारा बैठक की कार्रवाई को समाप्त किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page