औरंगाबाद

हत्या कर फेके गए 15 वर्षीय किशोर के शव को परिजनों ने पांच दिन बाद अगनूर के समीप नहर से किया बरामद

औरंगाबाद। दाउदनगर से पांच दिन पूर्व लापता हुए 15 वर्षीय किशोर रौशन कुमार उर्फ छोटू के शव को कलेर थाना क्षेत्र के अगनूर नहर से सोमवार को बरामद होते ही परिजनों का आक्रोश फुट पड़ा और इस जघन्य हत्या तथा पुलिस की कार्यशैली के खिलाफ स्थानीय लोगों तथा परिजनों ने भखरुआ मोड़ को जाम कर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।इस दौरान भखरुआ मोड़ लगभग चार घण्टे तक जाम रहा और 139 पर यातायात पूरी तरह से बाधित रही।

 

जाम की सूचना पर दाउदनगर एसडीएम कुमारी अनुपम सिंह एवं मुख्यालय एसडीपीओ नभ वैभव पहुंचे और आक्रोशितों को शांत कराने की कोशिश की मगर आक्रोशित अनुसंधानकर्ता को बर्खास्त करने प्राथमिकी को हत्या की धारा में तब्दील करने ,पीड़ित परिवार को नियमानुसार आपदा प्रबंधन के तहत मुआवजा देने, पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान करने एवं हत्यारों की पहचान कर गिरफ्तार करने व स्पीडी ट्रायल चलाकर सजा दिलाने की मांग की।

 

 

परिजनों एवं ग्रामीणों ने पुलिस पर यह आरोप लगाया कि नहर में शव पाए जाने की सूचना पर कलेर थाना की पुलिस कुछ ही पल में पहुंच गयी। परंतु दाउदनगर थाना की पुलिस को वहां पहुंचने में करीब तीन से चार घंटे लग गए।इतना ही नही यदि पुलिस 17 फरवरी को मौला बाग से जिस दिन किशोर के गायब होने की सूचना मिली।उस दिन हरकत में आ जाती तो उसे सकुशल बरामद किया जा सकता था।परंतु पुलिस इस मामले उदासीन रही।

 

 

सीओ विजय कुमार एवं थानाध्यक्ष शशि कुमार राणा ने दल बल के साथ पहुंचकर आक्रोशित लोगों को समझाने बुझाने का प्रयास किया। लेकिन लोग सुनने को तैयार नहीं थे। एसडीओ द्वारा बताया गया कि पीड़ित परिवार द्वारा सौंपे गये मांग पत्र को औरंगाबाद एसपी को अग्रसारित कर दिया गया है।काफी मशक्कत के बाद आक्रोशितों ने सड़क को जाम से मुक्त कराया गया।

 

गौरतलब है कि मृतक बालक की मां बसंती देवी द्वारा दाउदनगर थाना में एक केस( प्राथमिकी संख्या 76/ 22 दर्ज कराया गया है ,जिसमें कहा गया है कि उनका पुत्र रौशन कुमार उर्फ छोटू 17 फरवरी को समय करीब तीन बजे दिन में बिना कहे डेरा से कहीं चला गया है. काफी खोजबीन की गयी, लेकिन वह नहीं मिला। दाउदनगर थाना में गुमशुदगी की एक प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page