औरंगाबाद

जदयू नेतृत्व ने एक बार फिर विश्वनाथ सिंह पर जताया भरोसा, सौपी जिले की कमान

 

औरंगाबाद। अभी जिले में एमएलसी चुनाव एवं नगर निकाय चुनाव को लेकर सरगर्मियां बढ़ी हुई है।इसी बीच एक और खबर सामने आ रही है जहां जदयू प्रदेश नेतृत्व ने जिले की बागडौर एक बार फिर विश्वनाथ सिंह के हाथ मे सौपी है।जिले में जदयू से जुड़े लोगों को जैसे ही इसकी सूचना मिली लोगों ने श्री सिंह को बधाईयां देना शुरू कर दिया है।हालांकि इसको लेकर पार्टी नेतृत्व की तरफ से कोई आधिकारिक सूचना नही आई है लेकिन पार्ट के कई प्रदेश स्तर के नेताओं ने इसकी पुष्टि कर दी है।

 

गौरतलब है कि औरंगाबाद में पार्टी दो धाराओं में बंट गयी थी जिसका खामियाजा दल को विधानसभा के चुनाव में भुगतना पड़ा और यहां की सभी छह सीटें महागठबंधन के खाते में चली गयी।इसको लेकर एक दूसरे पर असहयोग रवैया अपनाने एवं पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल होने का आरोप भी लगा।दल में चल रहे अंतर्विरोध को देखते हुए प्रदेश नेतृत्व ने संगठन को औरंगाबाद में मजबूत करने की दिशा में काम शुरू किया।

 

इसको लेकर पिछले वर्ष अक्टुबर माह में प्रदेश नेतृत्व ने वरीय जदयू नेता एवं मुख्यमंत्री के विशेष करीबी एल बी सिंह को इसकी जिम्मेवारी सौपी और श्री सिंह ने इसको लेकर सर्किट हाउस में कार्यकर्ताओं की एक मीटिंग की।यह मीटिंग हंगामे की भेंट चढ़ गई और इसकी खबर मीडिया की सुर्खियों में रही।पार्टी नेतृत्व ने जिला कमिटी को भंग कर दिया और अगले निर्णय तक जिलाध्यक्ष के पद पर विश्वनाथ सिंह को बरकरार रखा।

 

पार्टी नेतृत्व द्वारा यह घोषणा की गई थी कि पिछले वर्ष ही त्योहारों की समाप्ति के बाद ही नई कमिटी की घोषणा कर दी जाएगी।लेकिन कमिटी की घोषणा में विलंब हुआ।पार्टी नेतृत्व ने औरंगाबाद की जदयू राजनीति को करीब से समझते हुए अन्य वरीय नेताओं से राय मशवरा कर पार्टी की कमान विश्वनाथ सिंह को सौप दी।अब यह आशा व्यक्त की जा रही है कि शीघ्र ही कमिटी का विस्तार होगा जिसकी सूची तैयार की जा रही है और प्रदेश के वरीय नेताओं के अनुमोदन के बाद उसे जारी किया जाएगा।अब देखना यह होगा कि होली का रंग किसके लिए गहरा और किसके लिए फीका होगा।

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page