औरंगाबाद

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की छात्रा सदस्यों ने ‘महिला सशक्तिकरण प्रतिभा निखार’ विषय पर सेमिनार का किया आयोजन

औरंगाबाद। अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद औरंगाबाद की छात्रा कार्यकर्ताओं द्वारा ‘महिला सशक्तिकरण प्रतिभा निखार’ विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें सभी छात्राओं ने महिलाओं की कृतियों पर श्लोगन एवं कविता लिखा और अपनी बातें रखी।
मां सरस्वती छात्रावास की डॉक्टर अमृता ने कहा कि आज का दिन महिलाओं की उपलब्धियों को समर्पित है। लेकिन कुछ लोगों को यह भ्रम है कि महिलाओं को उसके शक्ति का एहसास कराना एवं उन्हें सशक्त बनाना पड़ता है। परंतु वैसे लोगों को यह समझने की जरूरत है कि महिला खुद में सशक्त एवं शक्तिशाली है और इसके कई उदाहरण भरे पड़े हैं।

 

उन्होंने कहा कि जब इस देश में पीवी सिंधु विश्व चैंपियनशिप अपनी प्रतिभा पर जीत सकती है। जब इस देश में वित्त मंत्री के पद पर पहली बार कोई महिला विराजमान हो सकती है। तो महिलाओं को किसी भी दृष्टिकोण से कमतर समझना बेवकूफी है।

 

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य आशिका सिंह ने कहा कि आज की महिलाएं जीवन के हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल ही नहीं रही बल्कि धीरे-धीरे उनसे आगे निकल रही।लेकिन फिर भी अब भी कई ऐसी चुनौतियां हैं जो उनके कदमों को रोकने का काम कर रही है। महिलाओं ने अपनी काबिलियत, हुनर एवं मजबूत इच्छाशक्ति से हर चुनौती का सामना कर उसे परास्त किया है।

 

आशिका ने कहा कि बावजूद इसके महिलाओं के सामने कई चुनौतियां हैं जिससे वह जूझ रही है।हमे उन चुनौतियों से टकराने है और अपनी मंजिल प्राप्त करनी है।आज कई महिलाएं पर और इन चुनौतियों में प्रयाप्त शिक्षा का न मिल पाना अपने देश में बड़ी संख्या में लड़कियां अपनी शिक्षा को पूरा नहीं कर पाते हैं आज भी लड़कियों को अपने जीवन के हर क्षेत्र में कई तरह के भेदभाव का सामना करना पड़ता है।

 

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से सरिता वर्मा,काजल,निशा रानी, सरिका,रूपा,मनीषा,रूपाली,सोनम सिन्हा,शालिनी, प्रिया, सौम्या, आरुषि व अन्य महिलाएं भी शामिल रहे।

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page