औरंगाबाद

अम्बा के लोकेश ने रचा इतिहास, मुफलिसी के बावजूद मेहनत कर साइंस स्ट्रीम में पाया बिहार में चौथा स्थान

औरंगाबाद। एक कहावत है कि ”मेहनत इतना करो कि सफलता शोर मचा दे” और इसी कहावत को चरितार्थ किया है, कुटुंबा प्रखंड के सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्र वर्मा गांव के लोकेश ने। उसने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित इंटर विज्ञान की परीक्षा में 500 में 469 अंक प्राप्त कर बिहार में चौथा स्थान प्राप्त किया है।

 

शहर के सच्चिदानंद सिंहा कॉलेज के छात्र लोकेश कुमार ने अपनी मुफलिसी को कभी भी पढ़ाई में बाधक नही बनने दिया और कठिन परिश्रम के बल पर दृढ़ निश्चयता के साथ इंटर साइंस स्ट्रीम में चौथा स्थान प्राप्त किया है। लोकेश ने साइंस की तैयारी अंबा के ही गोल्डन कोचिंग सेंटर से तथा हिंदी एवं अंग्रेजी की तैयारी कैंब्रिज क्लासेस अंबा से ही किया है। लोकेश की सफलता से कॉलेज परिवार, कोचिंग सेंटर के शिक्षक व परिजनों में हर्ष व्याप्त है।

 

सच्चिदानंद सिन्हा कॉलेज के प्राचार्य डॉ वेद प्रकाश चतुर्वेदी ने लोकेश की सफलता पर उज़के बेहतर भविष्य की शुभकामनाएं दी है और कहा कि उसकी इस सफलता ने आर्थिक रूप से पिछड़े छात्र छात्राओं के लिए एक प्रेरणा है।उन्होंने कहा कि महज 3 अंक से वह पीछे रह गया अन्यथा यह भी बिहार टॉप होता।

 

लोकेश के पिता नंदलाल साहू एक व्यवसायी तथा माता सलामती देवी गृहिणी है। उसने अपनी सफलता का श्रेय अपने कोचिंग संचालक शिक्षक सुरेंद्र मेहता, अरविंद मेहता एवं कैंब्रिज क्लास के शिक्षक बबलू कुमार के साथ-साथ माता-पिता को दिया है। लोकेश ने बताया कि वह यूपीएससी की तैयारी कर अधिकारी बनना चाहता है ताकि समाज हित में कार्य कर सकें। लोकेश के बिहार में चौथा स्थान प्राप्त करने पर अम्बा के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने हर्ष  जताते हुए यह कहा कि उसकी सफलता से दूसरे बच्चों को भी सीख लेने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page