औरंगाबाद

अब युवतियों व महिलाओं को छेड़खानी का नहीं रहेगा डर, शहर के किशोर ने बनाया वुमन सेफ्टी डिवाइस

औरंगाबाद। बिहार ही नहीं देश की हर महिलाओं को लफंगों, गुंडों, मवालियों एवं असामाजिक तत्वों के द्वारा की जाने वाली छेड़खानी एवं दुष्कर्म की घटना से निजात मिलने की संभावना बढ़ गई है। क्योंकि औरंगाबाद शहर के सत्येंद्र नगर निवासी सूर्यकांत सिन्हा एवं निभा सिन्हा के पुत्र श्रेयस बी चंद्रा ने वीमेन सेफ्टी डिवाइस का आविष्कार कर यह कारनामा कर दिखाया है।

श्रेयस के द्वारा निर्मित इस डिवाइस की चर्चा बिहार दिवस पर पटना के गांधी मैदान में आयोजित साइंस एग्जीबिशन में हर लोगों के द्वारा की जा रही है और लोग डिवाइस कैसे कार्य करती है इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। श्रेयस के पिता और माता दोनों ही औरंगाबाद में सरकारी शिक्षक हैं। उसने बताया कि उनके द्वारा निर्मित वीमेन सेफ्टी डिवाइस के बटन दबाने से छेड़खानी करने वाले को करंट का झटका लगेगा और वह कुछ क्षण के लिए मूर्छित हो जाएगा।

 

तब तक युवतियां या महिलाएं वैसे लोगों की चंगुल से दूर जा चुकी होंगी या फिर झटका लगने के बाद असामाजिक तत्व फिर दोबारा गलत हरकत करने की हिम्मत नहीं जुटा पाएंगे। श्रेयस ने बताया कि यह डिवाइस 3.7 वोल्ट से 4.7 वोल्ट लेता है और 400 केवी विद्युत का झटका उत्पादित करता है।

उसने कहा कि यदि डिवाइस डिस्चार्ज भी हो जाएगा तो आपातकाल में उसे मोबाइल से भी चार्ज किया जा सकता है। उसने बताया कि उनका डिवाइस अभी प्रारंभिक अवस्था में है और इस पर बहुत काम करने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page