औरंगाबाद

दसवें चरण के मतदान के लिए डिस्पैच और रिसीविंग का दिया गया प्रशिक्षण

औरंगाबाद। पंचायत आम निर्वाचन 2021 के अंतर्गत औरंगाबाद जिले के देव प्रखंड में दसवें चरण का मतदान 08 दिसंबर को होना है। मतदान कार्यों की तैयारी तथा डिस्पैच , रिसिविंग काउंटर तथा मतगणना हेतु निर्वाची तथा सहायक निर्वाची पदाधिकारी के टेबल पर लगाए गए कर्मियों को उनके कार्य और दायित्व की समीक्षा बैठक देव प्रखंड मुख्यालय के सभा कक्ष में आयोजित किया गया।

 

उप निर्वाचन पदाधिकारी जावेद एकबाल ने उपस्थिति कर्मियों को संबोधित करते हुए बताया कि डिस्पैच वाले दिन सेक्टर तथा पेट्रोलिंग मजिस्ट्रेट को सामग्री दिया जाएगा । सामग्री देते समय इस बात का जरूर ध्यान रखेंगे की वो सामग्री संबंधित मतदान केंद्र का ही हो। सेक्टर पदाधिकारी को प्लेन ईवीएम के साथ साथ बैटरी, पिंक पेपर सील , आवश्यक स्टीकर आदि दिया जाएगा तथा पेट्रोलिंग मजिस्ट्रेट को कमीशनिंग किया हुआ ईवीएम मशीन, दो प्रकार के सील, दो प्रकार के टैग, चार पदो के लिए निविदत्त मतपत्र तथा पंच और सरपंच पद हेतु मतपत्रों का बंडल दिया जाएगा।

 

 

सभी सामग्री मिलान कर के ही देना चाहिए। वही रिसीविंग वाले दिन भी सभी को सावधानी बरतना होगा। पीठासीन पदाधिकारी से सामग्री प्राप्त करते समय ईवीएम मशीन, मतपेटिका के साथ साथ सभी प्रकार के प्रपत्रों को मिलान कर लेंगे। प्रत्येक पीठासीन पदाधिकारी से ईवीएम मशीन, मतपेटिका, संविधिक लिफाफा, असंविधिक लिफाफा, तीसरा एवं चौथा लिफाफा,मतदान प्रकोष्ठ के साथ साथ खुले लिफाफे में पीठासीन पदाधिकारी की डायरी, पीठासीन पदाधिकारी की घोषणा पदवार, रिकॉर्ड किए गए मतों का लेखा ईवीएम हेतु पदवार, मतपत्र लेखा तथा पेपर सील लेखा मतपेटिका हेतु, मॉक पोल सर्टिफिकेट ईवीएम हेतु पदवार, वोटर टर्न आउट रिपोर्ट एवं विजिट शीट निर्धारित संख्या में प्राप्त कर चालान द्वारा प्राप्ति रसीद देंगे।

 

 

ध्यान रखेंगे की किन्ही को परेशानी न हो। सभी सहायक निर्वाची पदाधिकारी ध्यान पूर्वक संबंधित बज्र गृह में ही ईवीएम को भेजना सुनिश्चित करेंगे। वहीं मतगणना का कार्य 10 दिसंबर को किशोरी सिन्हा महिला कॉलेज में होना है। इसे लेकर उप निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि मतदान प्रक्रिया का सबसे अंतिम दौर मतगणना की होती है। सभी अभ्यर्थियों की निगाहें मतगणना पर टिकी होती है। जिस प्रकार मतदान कार्य निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से होता है उसी तरह मतगणना भी निष्पक्ष , शांतिपूर्ण और दोषरहित हो। मतगणना कार्य के दौरान किसी पदाधिकारी या कर्मी की गलती को माफ नही किया जाएगा।

 

 

उन पर तुरंत करवाई होगी। इसलिए हमे ईमानदारी पूर्वक निष्पक्ष भाव से कार्य करना होगा। मतगणना टेबल से प्राप्त प्रपत्रों को सावधानी पूर्वक मिलान कर के ही आगे का प्रपत्र भरेंगे। पंच तथा ग्राम पंचायत सदस्य पद के लिए मतगणना टेबल से प्रपत्र 19 प्राप्त कर प्रपत्र 21 पूरा कर प्रपत्र 22 द्वारा प्रमाण पत्र तैयार किया जाता है। वही मुखिया, सरपंच,पंचायत समिति सदस्य तथा जिला परिषद सदस्य पद हेतु प्रपत्र 20 भाग 1 टेबल से प्राप्त कर 20 भाग 2 में समेकन तैयार करते है। पुनः मुखिया, सरपंच तथा पंचायत समिति सदस्य के लिए प्रपत्र 21 तैयार कर 22 द्वारा प्रमाण पत्र तैयार किया जाता है। तत्पश्चात निर्वाची पदाधिकारी विजेता अभ्यर्थी को प्रमाण पत्र देते है। इन सभी प्रक्रियाओं में हमे काफी सावधानी बरतनी होगी ताकि मतगणना प्रक्रिया दूषित न हो।

 

इस अवसर पर जिला पंचायत राज पदाधिकारी मंजू प्रसाद,निर्वाची पदाधिकारी देव, अंचल अधिकारी देव,सभी सहायक निर्वाची पदाधिकारी, मुख्य मास्टर प्रशिक्षक राजकुमार प्रसाद गुप्ता एवं टेबल के सभी कर्मी मौजूद थें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page