औरंगाबाद

प्रेमी ने किया इंकार,तो प्रेमिका पहुंची महिला थाना,थानाध्यक्ष ने मंदिर में कराई शादी

औरंगाबाद।सही कहा जाता है कि जोड़ियां भगवान ही बना कर भेजते है और एक पुरुष उसी महिला के साथ परिणय सूत्र में बंध जाता है जो एक दूसरे के लिए बने होते है।हां इसको लेकर कभी कभी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।लेकिन जब सफलता मिलती है तो जो सुखद एहसास होता है उसकी अभिव्यक्ति आनंददायी होती है।

ऐसा ही एक मामला सोमवार को नगर थाना स्थित शिव मंदिर में देखने को मिला जहाँ महिला थानाध्यक्ष कुमकुम कुमारी के प्रयास से एक प्रेमी युगल की शादी कराई गई और इस शादी समारोह में सादे वेश में पुलिसकर्मियों ने बाराती एवं सराती की भूमिका निभाई। यह एक ऐसी शादी थी जहां न बाजा बजा न बारात आई। परंतु वर वधु बने प्रेमी युगल की शादी भगवान को साक्षी मान सात फेरे के साथ करा दी गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पौथु थाना के बिरुआ गांव निवासी सरयू यादव की पुत्री श्वेता की आंखें एक वर्ष पूर्व हसपुरा के गिरधारी मठिया गांव निवासी चंदन कुमार से चार हो गयी।धीरे धीरे दोनों का प्रेम परवान चढ़ने लगा और मुम्बईया फ़िल्म की तरह साथ जीने साथ मरने की कसमें खाने लगे। दोनों के बीच सब कुछ ठीक ठाक चला फिर भी शादी को लेकर कुछ अड़चन आ ही गयी और घर के दबाव में लड़का इंकार चला गया।

अपने प्रेमी के इनकार से प्रेमिका श्वेता बिफर पड़ी और उसने इसकी सूचना अपने परिजनों को दी।बेटी की खुशी को देखते हुए उसके पिता ने भेटनियाँ पंचायत के सरपंच प्रतिनिधि विजय कुमार से मुलाकात कर सारी बात बताई और सरपंच प्रतिनिधि ने इस मामले को महिला थाना लाया जहाँ थानाध्यक्ष की पहल पर दोनों के परिवार वालों से बात कर धूमधाम से शादी सम्पन्न कराई।

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page