औरंगाबाद

भगवान और भक्त को जोड़ने का माध्यम है भागवत कथा- स्वामी राम रामप्रपन्नाचार्य

श्रीकृष्ण नगर में आयोजित श्री लक्ष्मीनारायण महायज्ञ में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

औरंगाबाद। शहर के श्रीकृष्ण नगर में आयोजित लक्ष्मी नारायण महायज्ञ का शुभारंभ हुआ। कथावाचक पद्मविभूषित स्वामी रामप्रपन्नाचार्य जी ने भागवत ग्रंथ का पूजन कर प्रवचन की शुरुआत की। कहा कि भागवत भगवान और भक्त को जोड़ने का माध्यम है। भागवत साक्षात ईश्वर का रूप है। अपनी संस्कृति की रक्षा के लिए संस्कृत का ज्ञान आवश्यक है। अंग्रेजी का ज्ञान जरूरी है, लेकिन संस्कृत का ज्ञान भारतीयता की रक्षा के लिए सबको प्राप्त करना चाहिए।

 

ज्ञान और वैराग्य को जगाने के प्रयास के प्रसंग पर बताया कि वर्तमान परिवेश में लोग समस्याओं का समाधान न मिलने पर डिप्रेशन में चले जाते हैं। ईश्वर के नाम का जाप करने से सभी समस्याओं का समाधान अवश्य ही निकलता है। भागवत कथा हमें सभी परिस्थितियों में राह दिखाता है।हजारों की संख्या में श्रद्धालु नर-नारी भगवत कथा का मंत्रमुग्ध हो रसपान किया।संजय शर्मा और अभय शर्मा सपत्नी कथा के यजमान थे।

 

प्रवचन के पश्चात लोगों ने रासलीला का भी आनंद उठाया।इस विशाल यज्ञ में लोगों के आवास, भोजन सहित सभी सुविधाओं का ख़्याल यज्ञ कमिटी द्वारा रखा जा रहा है।प्रथम दिन डॉ धनंजय शर्मा,सर्वेश कुमार सिंह, मनीष वत्स आदि ने स्वामीजी का माल्यार्पण किया।समस्त अथितियों का यज्ञ कमिटी द्वारा सम्मान किया गया।ज्ञात हो कि यज्ञ का कार्यक्रम 30 अप्रैल तक चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page