औरंगाबाद

चुनाव कराने गए गोह के राजस्वकर्मी नशे में हुए धुत,वीडियो हुआ वायरल,जांच के बाद डीएम ने किया निलंबित

औरंगाबाद। बिहार में नशा मुक्ति दिवस यानी कि 26 नवम्बर का दिन।इस दिन बिहार को नशा से मुक्त करने की लाइव शपथ पटना से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा दिलवाई गयी।एक आंकड़े के अनुसार इस दिन लगभग साढ़े तीन लाख कर्मियों ने शराब सेवन न करने और कुसी को न करने देने के प्रति जागरूक करने की शपथ ली। शपथ के बाद सभी कर्मियों एवं अधिकारियों ने अपने द्वारा हस्ताक्षरित शपथ पत्र भी समर्पित किया था। परंतु शपथ के बाद भी नशाखोरी से बिहार मुक्त नही हो सका और हर दिन बिहार के किसी न किसी हिस्से से शराब के नशे में धुत होकर हंगामा करते कर्मियों के फोटो और वीडियो वायरल होते रहे।

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

देखें वीडियो

औरंगाबाद में शराबबंदी का पोल खोलता यह पीठासीन पदाधिकारी,डीएम ने किया निलंबित


यदि आपने हमारे यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब नहीं किया है तो कृपया इसे सब्सक्राइब जरूर कर लें और बेल आइकन दबाना ना भूले ताकि आप खबरों से रहे अपडेट

यदि हमारा वीडियो पसंद पड़े तो कृपया लाइक, शेयर और कमेंट जरूर करें

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

औरंगाबाद में भी जिलाधिकारी सौरभ जोरवाल ने नगर भवन एवं अपने कार्यालय के समक्ष लोगों से शपथ ली और यह कार्यक्रम जिले के साथ साथ सभी प्रखंड मुख्यालय में भी चला जहां कर्मियों ने नशा सेवन न करने की शपथ ली।बावजूद इसके गोह के एक राजस्वकर्मी का वीडियो आज तेजी से वायरल हुआ। वायरल वीडियो श्री राम प्रसाद की बताई जा रही है।राजस्वकर्मी राम प्रसाद को आज दसवें चरण के चुनाव के लिए जिला मुख्यालय से पीठासीन पदाधिकारी बनाकर कुटुंबा प्रखंड के लिए मतदान कराने के लिए पुलिस बल के साथ भेजा गया था।मगर क्लस्टर सेंटर पहुचने के क्रम में उन्होंने शराब का सेवन कर लिया और धुत होकर सड़क पर गिरते पड़ते दिखाई पड़े। राजस्वकर्मी का वीडियो वायरल होते ही जिला प्रशासन ने इसे संज्ञान में लिया है।

 

जिला प्रशासन के संज्ञान में इस वीडियो के आने के पश्चात जिला पदाधिकारी सौरभ जोरवाल द्वारा इसकी पुष्टि की गई और पुष्टि होते ही उन्होंने तत्काल प्रभाव से श्री राम प्रसाद राम को निलंबित कर दिया है। जिलाधिकारी के द्वारा राजस्वकर्मी के निलंबन के उपरांत उनके आदेश से इनके विरुद्ध विभागीय कार्यवाही भी शुरू कर दी गई है।इसके अतिरिक्त उनके विरुद्ध बिहार मद्य निषेध अधिनियम 2016 के सुसंगत धाराओं के तहत इनके प्राथमिकी दर्ज कर अग्रेतर कार्रवाई की जा रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page