औरंगाबाद

यदि हमें अब तक की प्राप्त सुविधाओं की रक्षा करनी है तो संघर्ष के अलावा और कोई रास्ता नहीं-राम ईशरेश सिंह

बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ(गोप गुट) का द्वितीय प्रखंड सम्मेलन सम्पन्न

दाऊदनगर/”दुनियां के मजदूर वर्ग के धारावाहिक संघर्षों का ही यह परिणाम है कि आज हिंदुस्तान के मेहनतकशों को अपेक्षाकृत ढेर सारी सहूलियतें और सुविधाएं मिली हुई हैं जिनमें कटौती करने के लिए हमारी सरकार ने वैश्वीकृत नई आर्थिक नीति लागू की हुई है । हमें यदि अब तक की प्राप्त सुविधाओं की रक्षा करनी है तो संघर्ष के अलावा और कोई रास्ता नहीं ।”–उक्त बातें बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ(गोप गुट) के जिला अध्यक्ष राम ईशरेश सिंह ने रविवार को प्रखंड कार्यालय के प्रांगण में आयोजित महासंघ के द्वितीय प्रखंड सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कही ।

 

इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए महासंघ (गोप गुट) के जिला सचिव–सत्येन्द्र कुमार ने कहा कि आज देश ही नहीं बल्कि दुनियां के तमाम मेहनतकशों की एकता वक्त की जरूरत है ताकि पूंजी के क्रूर और खूंखार हमलों से मेहनतकशों की बढ़ती हुई बदहाली पर लगाम लगाया जा सके ।

 

मजदूर दिवस के अवसर पर आयोजित इस सम्मेलन की शुरुआत शहीद बेदी पर माल्यार्पण से हुई जिसमें उपस्थित लोगों ने देश दुनियां में सर्वहारा वर्ग एवं अन्य मेहनतकशों के शोषण से मुक्ति की लड़ाई में अपनी शहादतें दी हैं ।

 

इसके बाद कई अन्य वक्ताओं ने भी अपने विचार व्यक्त किए जिनमें बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ(गोप गुट)’मूल’ के जिला संयोजक -सुरेन्द्र सिंह,सह-संयोजक -अवधेश कुमार,अनुमंडल संयोजक – जुल्फिकार अली,प्रखंड अध्यक्ष -आफताब आलम, सदस्य -हासिम अली,कार्यपालक सहायकों के नेता-अनिल कुमार, गणेश कुमार रौशन, राजू कुमार, जनसेवक – बृजनंदन प्रसाद,पंचायत सेवक -योगेन्द्र प्रसाद, दाऊदनगर मौसमी कर्मचारी संघ के सचिव -अरविन्द कुमार, उपाध्यक्ष -जयराम सिंह, छठन पासवान, कोषाध्यक्ष -रविशंकर कुमार, मुनेश्वर पासवान,इत्यादि लोग प्रमुख थे ।

उपस्थित लोगों ने सर्वसम्मति से एक सात सदस्यीय प्रखण्ड कमिटी का चुनाव किया जिनमें अध्यक्ष -गणेश कुमार रौशन(कार्यपालक सहायक), सचिव -अवधेश कुमार(सहायक शिक्षक),कोषाध्यक्ष -रविशंकर कुमार(मौसमी कर्मचारी), उपाध्यक्ष – योगेन्द्र प्रसाद(पंचायत सचिव), राजू कुमार(आवास सहायक),संयुक्त सचिव के रूप में आफताब आलम(प्रखण्ड शिक्षक) तथा बृजनंदन प्रसाद(जनसेवक) सर्वसम्मति से चुने गए।

अन्त में इस सम्मेलन ने सर्वसम्मति से एक संकल्प प्रस्ताव भी पारित किया गया जिसमें यह संकल्प लिया गया कि अगले सत्र तक इस प्रखंड के सभी कोटि के कर्मियों एवं शिक्षकों को संगठित कर के उनकी समस्याओं के समाधान हेतु जुझारू और धारावाहिक आंदोलनों का सृजन किया जायेगा । इसके लिए यह नव-निर्वाचित प्रखंड कमिटी अपनी आगामी बैठक में एक विस्तृत कार्ययोजना तैयार करेगी तथा कर्मचारी शिक्षकों की समस्याओं का हर संभव समाधान करेगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page