औरंगाबाद

विद्यालयों मे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं बेहतर शैक्षणिक माहौल स्थापित करने के लिए धरातल पर दिखने लगी कार्य योजना

औरंगाबाद। जिले में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं शैक्षणिक वातावरण निर्माण के क्रम में विभिन्न गतिविधियां एवं कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं. शिक्षा विभाग के नोडल पदाधिकारी आलोक कुमार ने बताया कि जिला पदाधिकारी औरंगाबाद के द्वारा सभी कोटी के विद्यालयों में नवाचार एवं अन्य अद्वितीय कार्यक्रम के संचालन हेतु निर्देश निर्गत किए गए हैं.इसी क्रम में जिला पदाधिकारी सौरभ जोरवाल के निर्देशानुसार माध्यमिक शिक्षा के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी दीपक कुमार एक नई गतिविधियां आयोजित करने हेतु कार्य योजना तैयार कर रहे हैं.

 

जिला कार्यक्रम पदाधिकारी माध्यमिक शिक्षा दीपक कुमार ने बताया कि आकांक्षी जिला कार्यक्रम के अंतर्गत किशोरी बालिका कार्यक्रम के द्वारा आयु समूह 10 से 18 वर्ष की बालिकाओं को बैक टू स्कूल कार्यक्रम के माध्यम से विद्यालय से जोड़ा जाएगा. इसके लिए एक कार्य योजना तैयार की जा रही है. पीरामल फाउंडेशन के जिला प्रोग्राम लीडर राकेश कुमार राय एवं संबंधित समिति के सदस्य श्री निरंजय कुमार ने बताया कि जिला कार्यक्रम पदाधिकारी माध्यमिक शिक्षा एवं साक्षरता की अध्यक्षता में इसके सफल संचालन एवं आयोजन हेतु इससे संबंधित एक बैठक आज आहूत की गई तथा इस योजना को कार्यान्वित करने हेतु विचार विमर्श भी किया गया.

 

उन्होंने बताया कि इसके अंतर्गत प्रत्येक ग्राम टोला मोहल्ला से आयु समूह 10 से 18 वर्ष के सभी बालिकाओं की व्यापक स्थिति तथा जानकारी प्राप्त कर प्रखंड एवं विद्यालय कैंप के माध्यम से उन्हें निकट कि विद्यालय में जोड़ने की प्रक्रिया प्रारंभ की जाएगी. इस कार्यक्रम में बालिकाओं की सर्व सूचना हेतु मेरा योगदान ऐप का प्रयोग भी किया जाएगा.साक्षर भारत के प्रभारी सहायक विजय कुमार ने बताया कि इस कार्यक्रम को कार्यान्वित करने हेतु टोला सेवक शिक्षा सेवक तालिमी मरकज को लगाया जाना है. बालिकाओं को पुनः विद्यालय से नामांकित करने के बाद संबंधित सूचना प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के माध्यम से अपने कार्यालय में उपलब्ध कराने हेतु जिला पदाधिकारी औरंगाबाद के द्वारा निर्देश भी दिया जा चुका है.

 

बैठक के बाद सदस्यों ने संयुक्त रूप से बताया कि आकांक्षी जिला की इस कार्यक्रम से बालिका शिक्षा को बढ़ावा तो मिलेगा ही इसके साथ साथ महिला सशक्तिकरण एवं महिला साक्षरता दर में गुणात्मक सुधार के प्रति जिला अग्रसर होगा. जिला पदाधिकारी औरंगाबाद के निर्देशानुसार सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी इसे कार्यान्वित करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page