औरंगाबाद

मंजुराही गांव में गोलीबारी की घटना एवं मौत के बाद पुलिसिया कार्रवाई को देख परिजनों ने सदर अस्पताल के सामने शव रख किया सड़क जाम

सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी गौतम शरण ओमी ने आक्रोशित परिजनों से की बात एवं सड़क को कराया जाम से मुक्त

औरंगाबाद। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मंजूराही गांव में बुधवार की रात तिलक समारोह के पश्चात गाड़ी को आगे पीछे करने के क्रम में चली गोली में एक व्यक्ति की मौत हो गई. मृतक संजीत कुमार सिंह तिलक समारोह में शामिल होने अरवल के बहादुरपुर से आए हुए थे और जिनकी तिलक थी उनके रिश्ते में वह बहनोई थे. संजीत सिंह की मौत के बाद मृतक के परिजन उस वक्त आक्रोशित हो गए जब वे शव को लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल पहुंचे.

 

मगर तब तक आरोपी पर पुलिस की कोई कार्रवाई नहीं होती दिखी.पुलिसिया गतिविधि को देख क्षुब्ध परिजनों ने सदर अस्पताल के समीप शव के साथ पुरानी जीटी रोड को जाम कर दिया और जमकर हंगामा करने लगे. इस दौरान परिजनों एवं गांव के अन्य लोगों ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी भी की और एसपी को बुलाने की मांग पर अड़े रहे. मृतक के साले नागेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस आरोपी को बचाने का प्रयास कर रही है. क्योंकि हिरासत में लेने के बाद भी पुलिस आरोपी को उसका मोबाइल देकर इधर उधर बात करा रही है और आरोपी थाना में ही बैठकर धमकी दे रहा है.

 

इधर संवाद प्रेषण तक जाम की स्थिति बनी हुई थी और पुलिस आक्रोशितो को समझाने के प्रयास में लगी हुई थी. आक्रोशित ओं के द्वारा सड़क जाम किए जाने की सूचना पर सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी गौतम शरण ओमी सदर अस्पताल के मुख्य द्वार पर जहां सड़क को जाम कर के रखा गया था वहां पहुंचे और आक्रोशित हो से बात की. उन्होंने कहा कि इस मामले में किसी को बख्शा नहीं जाएगा और हर हाल में पीड़ित के परिजनों को न्याय दिलाया जाएगा. एसडीपीओ के आश्वासन के बाद सड़क जाम से मुक्त हुआ और यातायात सामान्य हुआ.

 

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
You cannot copy content of this page