औरंगाबाद

कोरबा से आई एक महिला मरीज का दूरबीन द्वारा गॉल ब्लाडर एवं बच्चेदानी का हुआ सफल ऑपरेशन

पिछले पांच वर्षों से अनियमित माहवारी से परेशान थी मरीज

औरंगाबाद।शहर के यूरोलौजी एंड गायनी सेंटर में सोमवार को छत्तीसगढ़ के कोरबा से आई 45 वर्षीय एक महिला मरीज़ का दूरबीन द्वारा बच्चेदानी और गॉल ब्लाडर दोनो का एक साथ सफ़लता पूर्वक ऑपरेशन कर चिकित्सक डॉ शशि कुमारी ने जिले के स्वास्थ्य क्षेत्र में न सिर्फ एक उपलब्धि हासिल की है बल्कि अपनी बीमारी से परेशान मरीज़ को राहत प्रदान की है.

 

इस सम्बंध में डॉ शशि ने बताया कि महिला फाइब्रॉयड युटेरस के कारण पिछले 5 वर्ष से अनियमित माहवारी से पीड़ित थी और उसके इलाज के लिए इधर-उधर भटकते चल रही थी लेकिन कहीं उसका सही उपचार नहीं हो सका. लेकिन जब औरंगाबाद पहुंची तो उसका सफल इलाज कर उसे नया जीवन प्रदान किया गया. डॉ शशि ने बताया कि दूरबीन से की जाने वाली सर्जरी ओपन सर्जरी की तुलना में कई गुना बेहतर है.

 

उन्होंने बताया कि लैप्रोस्कोपिक सर्जरी में विशेष उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है ताकि सर्जन ओपन सर्जरी की तुलना में कहीं अधिक अच्छे ढंग से बेहतर गुणवत्त के साथ सर्जरी कर सके.सर्जरी में लेप्रोस्कोप से एचडी कैमरा जुड़ा है जो संबंधित अंग के कई दृश्यों की छाया लेता है.जिससे परेशानी आसानी से पहचान में जाती है व जटिलताओं की आशंका कम होती है.

 

इस प्रकार के ऑपरेशन में विशेषज्ञ पेट पर छोटे 3 – 4 चीरे लगाते हैं जो 5 मिमी. से 1 सेंटीमीटर तक के होते हैं. इन्हें कम टांकों से बंद कर देते हैं जिससे पेट पर निशान नहीं रहता.साथ ही साथ संक्रमण का खतरा बेहद कम हो जाता है.सर्जरी के बाद दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवाओं से मरीज जल्द ही सही भी हो जाता है.आधुनिकतम तकनीक के होने से सर्जरी में दर्द और अन्य प्रकार की कई परेशानी कम होती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page