औरंगाबाद

पुलिस ने नक्सलियों के आमदनी के श्रोत पर लगाया ग्रहण,शराब बेच परिवार चलाने को हुए विवश, 20 लीटर महुआ शराब के साथ धराया नक्सली

औरंगाबाद। एक समय था जब नक्सलियों की आमदनी का स्रोत लेवी वसूलना था।मगर यह श्रोत अब बीते जमाने की बात हो गयी। औरंगाबाद पुलिस सीआरपीएफ एवं कोबरा द्वारा ऐसे कितने लोगों को पकड़कर जेल भेज दिए गए।जो नक्सलियों के लिए पैसे की उगाही का काम किया करते थे।या फिर कई लोगों ने मुख्य धारा से जुटकर उस पेशे से किनारा कर लिया।हाल के दिनों में पुलिस ने नक्सलियों के कई नेटवर्क को ध्वस्त भी किया है।नक्सल प्रभावित क्षेत्र के वैसे लोग जो शाम ढलने के पूर्व शहर का रुख कर लिया करते थे अब अपने गांव में रहकर खेती करने लगे हैं।यदि देखा जाए तो जिले में नक्सली वारदात पहले की अपेक्षा न के बराबर हो गयी है।

 

गुरुवार की शाम मदनपुर के गुलाब बिगहा से गिरफ्तार ललन कुमार भोक्ता की कहानी कुछ ऐसी ही घटनाचक्र को बयां करती है। जो 5 नक्सली घटना में शामिल रहने के बाद पुलिसिया दबिश के कारण छुपकर शराब बेचने में लगा हुआ था और 20 लीटर महुआ शराब के साथ लिया गया।

उसकी गिरफ्तारी उस वक्त की गई जब वह उसे बेचने जा रहा था। नक्सलियों की धड़ पकड़ के लिए जिले में चलाए जा रहे छापेमारी अभियान के तहत औरंगाबाद पुलिस को इसे गिरफ्तार करने में सफलता हासिल हुई है।

 

शुक्रवार को इस बात की जानकारी देते हुए एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि इस अभियान के तहत मदनपुर थाना की पुलिस ने वर्ष 2014 में मदनपुर के सीआरपीएफ कैम्प एवं मदनपुर प्रखंड कार्यालय पर हमला मामले में नामजद हार्डकोर नक्सली को गिरफ्तार किया गया है।एसपी ने बताया कि गिरफ्तार नक्सली ललन कुमार भोक्ता मदनपुर के ही पितम्बरा गांव का रहने वाला है और उसके पास से 20 लीटर महुआ शराब और बाइक जप्त किया गया है।उन्होंने बताया कि गिरफ्तार नक्सली पर कुल पांच नक्सली मामले दर्ज है और उसकी गिरफ्तारी के बाद आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page