औरंगाबाद

जुगनू शारदेय का निधन,पत्रकारिता जगत के लिए अपूरणीय क्षति

औरंगाबाद। देश की लोकप्रिय साहित्य,कला व संस्कृति की संवाहक संस्थाओं में से एक “साहित्यकुंज” द्वारा औरंगाबाद के निवासी एवं देश के लब्धप्रतिष्ठ पत्रकार,कवि,कथाकार एवं लेखक जुगनू शारदेय के आकस्मिक निधन पर ऑनलाइन शोकसभा का आयोजन किया गया।
शोकसभा में वरीय पत्रकार अनामी शरण “बबल ” कमल किशोर श्रीवास्तव(औरंगाबाद), एवं वरीय शिक्षक श्रीराम रॉय ने स्वर्गीय जुगनू शारदेय को एक निर्भीक व ईमानदार पत्रकार बताते हुये कहा कि जुगनू शारदेय का निधन,पत्रिकारिता जगत एवं हिन्दी साहित्य के लिए अपूरणीय क्षति है।

 

शोकसभा में श्री पटना के वरीय कवि व कथाकार अरविन्द अकेला ने बताया कि जुगनू जी पत्रकारिता जगत में औरंगाबाद जिला के लिए शान थे। आज से 20 साल पहले औरंगाबाद के विमल मेडिकल हाल में नव भारत टाईम्स के तत्कालीन पत्रकार जगन्नाथ प्रसाद गुप्ता जी के साथ जब बात व मुलाकात हुयी थी तो उनकी बातों में स्पष्टवादिता एवं अक्खड़पन देखने को मिला था। श्रीअकेला ने बताया कि जुगनू औरंगाबाद जिला के लिए शान थे। शोकसभा में अनिल चंचल(मुम्बई),डॉक्टर अजय कुमार सिन्हा(कानपुर),डॉक्टर ब्रजेन्द्र नारायण द्विवेदी “शैलेश “(बाराणसी), भारती जोशी (हरिद्वार),निर्मल जैन(जौनपुर),नेतलाल यादव (गिरीडीह),जनार्दन शर्मा एवं वरीय कवियित्री सुषमा सिंह ने स्वर्गीय शारदेय के प्रति अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की।

 

औरंगाबाद में भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों ने स्व शारदेय के निधन पर एक शोकसभा का आयोजन कर उन्हें अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की।शोकसभा मे न्यूज 18 के संजय सिन्हा, इंडिया टीवी के किशोर प्रियदर्शी, आज तक के अभिनेष कुमार सिंह,जी न्यूज के मनीष कुमार, ईटीवी भारत के संतोष कुमार, लाइव 24 के आदित्य सिंह,लाइव 18 के गणेश प्रसाद, स्ट्रीट बज के धीरेंद्र पांडेय, नवभारत टाइम्स के आकाश कुमार आदि शामिल थे।शोकसभा के पश्चात पत्रकारों ने बताया कि दिवंगत शारदेय जी शहर के ही शाहपुर के रहने वाले थे और दिल्ली में पत्रकारिता के क्षेत्र में काफी नाम रौशन किया और फिर वही के होकर राह गए। उनके निधन पर उनके भतीजे शिवम शारदेय ने कहा कि एक अभिभावक का साया सर से हट गया।जिसकी क्षतिपूर्ति निकट भविष्य में संभव नही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page