औरंगाबाद

पूर्व मुख्यमंत्री मांझी जी का हिन्दू धर्म व ब्राह्मणों के प्रति की गई टिप्पणी निदंनीय व दुर्भाग्यपूर्ण है-कुन्दन पाण्डेय

औरंगाबाद। भाजपा के पूर्व प्रखंड अध्यक्ष सह चाणक्य परिषद के जिला उपाध्यक्ष कुन्दन पाण्डेय ने प्रेस बयान जारी कर कहा कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी द्वारा समाज में हिन्दू धर्म व ब्राह्मणों के प्रति की गई टिप्पणी से जनमानस आहत है। इस तरह के बयान समाज के सौहार्द को बिगाड़ने का काम करते हैं। पाण्डेय ने कहा कि हम सबों का यह प्रयास होना चाहिए कि समाज को जोड़कर एक साथ रखा जाए और विकास के मूलमंत्र पर ध्यान देते हुए बिहार को देश के अग्रणी राज्य के रुप में स्थापित किया जाए।

 

 

पाण्डेय ने कहा कि समाज में जनप्रतिनिधि की भूमिका बेहद व्यापक और महत्वपूर्ण है। जनप्रतिनिधि का आचरण और उनके बयान समाज को एक दिशा देने का कार्य करते हैं। श्री जीतन राम मांझी जी स्वयं बिहार के मुख्यमंत्री के पद पर आसीन रह चुके हैं और ऐसे में समाज के प्रति उनकी जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है। आज जब भारत एकजुट होकर पूरे विश्व में अपना परचम लहरा रहा है तो ऐसे समय में राजनेताओं को इस तरह के बयान से समाज को बांटकर अपने स्वार्थ को सिद्ध करने का प्रयास कतई नहीं करना चाहिए अपितु सबों को मिलकर डेवलपमेंट पॉलिटिक्स “विकास की राजनीति” करनी चाहिए।

 

 

 

इस तरह के बयान एक सभ्य समाज में कतई स्वीकार्य नहीं हैं। हमारे संस्कार भी समरसता और एकजुटता का आह्वान करते हैं। 40 वर्षों से अधिक का सार्वजनिक जीवन बिताने के बाद भी श्री जीतन राम मांझी जी इस तरह का बयान दे रहे हैं जोकि निश्चित ही बेहद शर्मनाक है।उन्हें कोई भी बयान देने से पहले इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनके किसी भी बयान से समाज में विद्वेष का प्रसार न हो और इसका कोई गलत संदेश लोगों तक न जाये। पाण्डेय ने कहा कि उनका यह बयान समाज के प्रत्येक जाति व वर्ग के व्यक्ति के लिए दुःखद और अस्वीकार्य है। उनके बयान से बिहार का हर व्यक्ति आहत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page