औरंगाबाद

फ़ाइलेरिया रोधी दवाएं खाएं, स्वयं को और अपने परिजनों को फ़ाइलेरिया से बचाएं

बिहार के औरंगाबाद जिले में 21 दिसम्बर से शुरू हो रहा है मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (आई.डी.ए.)

औरंगाबाद। बिहार के औरंगाबाद जिले में 21 दिसम्बर से फाइलेरिया रोग के उन्मूलन हेतु कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुसार शारीरिक दूरी (दो गज की दूरी), मास्क और हाथों की साफ़-सफाई संबंधी नियमों का अनुपालन करते हुए समुदाय को फाइलेरियाया हाथीपांव रोग से बचाने के लिए तीन फ़ाइलेरिया रोधी दवाओं डी.ई.सी., अल्बंडाज़ोल तथा आईवरमेक्टिन के साथ मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (आई.डी.ए.) कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है ।

 

 

इसी सम्बन्ध में,मीडिया की सक्रिय एवं महत्वपूर्ण भूमिका पर चर्चा करने हेतु जिला स्वास्थ्य समिति, सीफार एवं ग्लोबल हेल्थ स्ट्रेटजीज द्वारा अन्य सहयोगी संस्थाओं यथा विश्व स्वास्थ्य संगठन, लेप्रा सोसाइटी, केयर और प्रोजेक्ट कंसर्न इंटरनेशनल के साथ समन्वय स्थापित करते हुए, मीडिया सहयोगियों के साथ सोमवार को एक मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस मौके पर उप विकास आयुक्त अंशुल कुमार, अपर समाहर्ता आशीष कुमार सिन्हा, जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ कुमार महेंद्र, केयर इंडिया डीटीएल उर्वशी प्रजापति, विश्व स्वास्थ्य संगठन से डॉ अरुण कुमार सहित अन्य मौजूद थे.

 

 

डीडीसी ने मीडिया कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि जिले के अन्य विभागों के साथ समन्वय बनाते हुए पूरे प्रयास किये जा रहें हैं कि हर लाभार्थी तक फाइलेरिया रोधी दवाएं पहुंचें और स्वास्थ्य कर्मियों के सामने ही उनका सेवन सुनिश्चित हो । फाइलेरिया उन्मूलन अभियान में इस बात का विशेष ध्यान देना है कि जो लोग अभियान के दौरान घर पर नहीं हैं और दवा खाने से वंचित हो गए हैं, उनमें ऐसी भावना पैदा हो और उन्हें इस तरह जागरूक किया जाये कि वे घर वापस लौटने पर अपने गाँव की आशा के पास जाएँ और अपने हिस्से की फाइलेरिया रोधी दवा अवश्य दवाएं खाएं ।

 

 

फाइलेरिया के लक्षण शुरुआत में नहीं नज़र आतें हैं परंतु इसके दूरगामी परिणाम इंसान को दिव्यांगता से ग्रसित कर सकते हैं । जैसे हाँथीपाँव के कारण शरीर मे असामान्य सूजन होने के बाद इसका ईलाज संभव नहीं है । इसीलिए, मीडिया द्वारा, समाज के हर वर्ग तक इस बीमारी से जुड़े मुख्य सन्देश और महत्वपूर्ण जानकारियां अवश्य पहुंचाएं । मीडिया के माध्यम से समुदाय में जानकारियां बहुत आसानी से पहुँच जाती हैं, इसीलिए, मैं मीडिया बंधुओ से अपील करूंगा कि वे स्वयं फाइलेरिया रोधी दवा का सेवन करे और इसके सकारात्मक परिणामों के बारे में जागरूकता फ़ैलाये ताकि लोग स्वयं को और अपने परिवार को इस घातक बीमारी से सुरक्षित रख सकें, फाइलेरिया का पूर्ण रूप से उन्मूलन हो और आने वाली पीढ़ी को एक स्वस्थ भविष्य मिल सके ।

 

 

इस अवसर पर जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण अधिकारी डॉ कुमार महेंद्र प्रताप ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए, कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला । उन्होंने कहा कि फाइलेरिया से उन्मूलन की प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते हुए, कोविड-19 महामारी के दौरान भी महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य पहलों को जारी रखने के महत्व को स्वीकार करते हुए औरंगाबाद जिले ने 21 दिसम्बर से मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (आई.डी.ए.) कार्यक्रम शुरू करने का निर्णय लिया है ।

 

 

उन्होंने बताया कि इस अभियान में सभी योग्य लाभार्थियों को फाइलेरिया से सुरक्षित रखने के लिए डी.ई.सी. ,अल्बंडाज़ोल तथा आईवरमेक्टिन की निर्धारित खुराक खिलाई जाएगी । इसके तहत 5 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों को आईवरमेक्टिनदवा सहित 2 से 5 वर्ष आयु के बच्चों को डी.ई.सी. और अल्बंडाज़ोल की निर्धारित खुराक स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा घर-घर जाकर, अपने सामने मुफ्त खिलाई जाएगी एवं किसी भी स्थिति में, दवा का वितरण नहीं किया जायेगा । दवा खिलाते वक़्त ध्यान देना है कि इस दवा का सेवन खाली पेट नहीं करना है । साथ ही साथ विशेष ध्यान रखना है कि यह दवा 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं, 1 सप्ताह पूर्व माँ बनी माताओं और अति गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों को नहीं खिलाना है ।

 

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के जोनल एनटीडी कोऑर्डिनेटर डॉ अरुण कुमार ने बताया कि फाइलेरिया या हाथीपांव रोग, सार्वजनिक स्वास्थ्य की गंभीर समस्या है। यह रोग मच्छर के काटने से फैलता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्लू.एच.ओ.) के अनुसार फाइलेरिया, दुनिया भर में दीर्घकालिक विकलांगता के प्रमुख कारणों में से एक है।

 

 

आमतौर पर बचपन में होने वाला यह संक्रमण लिम्फैटिक सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है और अगर इससे बचाव न किया जाए तो इससे शारीरिक अंगों में असामान्य सूजन होती है। फाइलेरिया के कारण चिरकालिक रोग जैसे; हाइड्रोसील (अंडकोष की थैली में सूजन), लिम्फेडेमा (अंगों की सूजन) व काइलुरिया (दूधिया सफेद पेशाब) से ग्रसित लोगों को अत्यंत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है जिससे उनकी आजीविका व काम करने की क्षमता भी प्रभावित होती है।

 

 

जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण अधिकारी डॉ कुमार महेंद्र प्रताप ने कहा कि जिले के अन्य विभागों के साथ समन्वय बनाते हुए पूरे प्रयास किये जा रहें हैं कि हर लाभार्थी तक फ़ाइलेरिया रोधी दवाएं पहुंचें और स्वास्थ्यकर्मियों के सामने ही उनका सेवन सुनिश्चित हो । उन्होंने सूचित किया कि जिले में कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिए 1100 टीमों का गठन किया गया है और किसी भी विषम परिस्थिति से निपटने के लिए प्रशिक्षित रैपिड रिस्पॉन्स टीम तैनात कर दी गयी है।

 

 

यह भी कहा कि फ़ाइलेरिया उन्मूलन अभियान में इस बात का विशेष ध्यान देना है कि जो लोग अभियान के दौरान घर पर नहीं हैं और दवा खाने से वंचित हो गए हैं, उनमें ऐसी भावना पैदा हो और उन्हें इस तरह जागरूक किया जाये कि वे घर वापस लौटने पर अपने गाँव की आशा के पास जाएँ औए अपने हिस्से की फ़ाइलेरिया रोधी अवश्य दवाएं खाएं ।

 

 

प्रोजेक्ट कंसर्न इंटरनेशनल के जिला प्रतिनिधि अनमोल मिश्रा ने बताया कि आई.डी.ए. अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए ग्राम स्तर पर ग्राम प्रधानों के सहयोग से सोशल मोबिलाइजेशन से सम्बंधित गतिविधियां संचालित की जाएँगी।

 

 

सीफार के प्रतिनिधि शिकोह अलबदर ने कहा कि इस बीमारी के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए मीडिया की भूमिका बहुत सशक्त माध्यम है क्योंकि समुदाय में प्रचार-प्रसार के माध्यम से जागरूकता अत्यंत शीघ्रता से फैलती है। उन्होंने कहा कि जिले में स्थानीय मीडिया से समन्वय बनाकर कार्य किया जा रहा है ताकि, मीडिया के माध्यम से कार्यक्रम के संबंध में लोगों तक उचित और महत्त्वपूर्ण जानकारियां पहुँच सकें ।

 

 

मीडिया सहयोगियों से संवाद के दौरान कई प्रश्नों के उत्तर में विशेषज्ञों ने बताया कि फ़ाइलेरिया के लक्षण शुरुआत में नहीं नज़र आतें हैं इसीलिए, मीडिया द्वारा, समाज के हर वर्ग तक इस बीमारी से जुड़े मुख्य सन्देश और महत्वपूर्ण जानकारियां अवश्य पहुंचाएं । उन्होंने कहा कि मीडिया के माध्यम से किसी भी जानकारी को बहुत आसानी से पहुँचाया जा सकता है और इसीलिए, मीडिया द्वारा फाइलेरिया रोधी दवा के सेवन और इसके सकारात्मक परिणामों के बारे में जागरूकता फ़ैलाने की बहुत अधिक आवश्यकता है ताकि लोग स्वयं को और अपने परिवार को इस घातक बीमारी से सुरक्षित रख सकें । सभी ने कहा कि फाइलेरिया का पूर्ण रूप से उन्मूलन हो और आने वाली पीढ़ी को एक स्वस्थ भविष्य मिल सके।

 

 

अंत में जिले के वेक्टर जनित रोग परामर्शदाता डॉ कुमार महेंद्र प्रताप ने कहा कि मीडिया की भूमिका आई.डी.ए. कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है । उन्होंने मीडिया सहयोगियों से अनुरोध किया कि वे समाचारों और मीडिया कवरेज के माध्यम से लोगों को लिम्फैटिक फाइलेरियासिस (हांथीपांव, हाइड्रोसील आदि) से बचाव के लिए दवा खाने के लिए जागरूक करें।

 

 

कार्यशाला में, जिला स्वास्थ्य समिति के अधिकारियों के साथ ही, जिले के मीडिया सहयोगी, विश्व स्वास्थ्य संगठन, केयर, प्रोजेक्ट कंसर्न इंटरनेशनल, सीफार एवं ग्लोबल हेल्थ स्ट्रेटजीज के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे ।

सुरक्षित दवा, भरोसा स्वास्थ्य का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page