औरंगाबाद

विद्युत आपूर्ति बहाल करने को लेकर देव में उपभोक्ताओं ने किया आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन

औरंगाबाद। जिले के देव औरंगाबाद मुख्य पथ स्थित पावर स्टेशन में बुधवार को बिजली विभाग देव के अधिकारियों के रवैये के खिलाफ बिजली ऑफिस पर देव के उपभोक्ताओं ने प्रदर्शन किया। उपभोक्ताओं ने बताया कि देव के सहायक विधुत अभियंता शिवरतन लाल एवं कनीय विधुत अभियंता सचिन कुमार की लापरवाही के कारण देव क्षेत्र के उपभोक्ता अनियमित विधुत आपूर्ति से त्रस्त है । अधिकारियों द्वारा लोड सेंडिंग के नाम पर घंटो बिजली बाधित करते है। जिसके कारण स्थानीय नागरिक एवं ग्रामीण भीषण गर्मी में बिजली संकट से जूझने को मजबूर रहते है।

बार बार शिकायत के बाद भी जब स्थिति नही सुधरी तो  उपभोक्ताओं का धैर्य जवाब दे दिया। भारी संख्या में उपस्थित लोगो ने पावर स्टेशन में बिजली विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया । इस दौरान सहायक विद्युत अभियंता और कनीय विद्युत अभियंता पर उपभोक्ताओं ने कई तरह के आरोप लगाए । वहीं उपभोक्ताओं की आंदोलन की सूचना होने के बाद समय से पहले ही अधिकारी कार्यालय छोड़कर भाग खड़े हुए। स्टेशन में कोई अधिकारी उपस्थित नही रहे।

 

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे स्थानीय समाजसेवी आलोक सिंह ने प्रतीकात्मक रूप से आज पावर स्टेशन की दिवाल पर कालिख लगाते हुए कहा कि यदि विभागीय अधिकारियों का रवैया नहीं सुधरा तो आज दिवाल पर कालिख लगा है, कल चेहरा पर भी लगाया जाएगा ।वहीं आक्रोशित उपभोक्ताओं ने स्टेशन में जगह जगह कालिख लगाकर प्रदर्शन किया ।उपस्थित समाजसेवी आलोक सिंह ने उपभोक्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि विभागीय अधिकारी बिजली बकाया के नाम पर लाइन काटने , और प्राथमिकी दर्ज कर आर्थिक और मानसिक दोहन करते है । अवैध उगाही देव का नियति बन गया है।

 

उन्होंने कहा कि देव के सुदूर ग्रामीण क्षेत्र केताकी पूर्वी पंचायत के गंजोई, देवा बिगहा, बारहा, सेवरी नगर, पनियाही जैसे महादलित वर्ग के गांवों को चिन्हित कर बिजली काटना, सरगांवा पंचायत के सुही गांव का बिजली काटना सरकार के मानवीय न्याय के नैसर्गिक अवधारणा के खिलाफ है। जबकि कई ऐसे सरकारी कार्यालयों के लाखों बकाया के बाद भी बिजली आपूर्ति बहाल है। श्री सिंह ने कहा कि बिजली नही रहने से उक्त गांवो के लोग विषम परिस्थिति में नारकीय जीवनयापन को बाध्य है। एक तरफ सरकार ने किरासन तेल की आपूर्ति बंद कर दिया है।ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली काटे जाने से बरसात के मौसम में सांप- बिच्छू जैसे खतरनाक जंतु से बचने में कठिनाई हो रही है। लोड सेंडिंग के नाम पर अनियमित बिजली आपूर्ति से छात्रों की पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है ।

 

प्रदर्शन के माध्यम से उन्होंने विभागीय अधिकारियों से आग्रह किया कि शहरी एवं ग्रामीण सभी फीडरों में निर्बाध बिजली आपूर्ति बहाल करते हुये उक्त सभी गांवों में बिजली आपूर्ति की जाये। अन्यथा उग्र प्रदर्शन को हम सभी बाध्य होंगे तथा अधिकारियों को कार्यालय में चैन से बैठने नही दिया जाएगा। इस दौरान उग्र प्रदर्शन के बाद पावर स्टेशन के मुख्य द्वार पर उपभोक्ताओं ने आगजनी कर बिजली विभाग के अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारे लगाए ।

 

इस दौरान सचिन कुमार सिंह, गुलशन कुमार, अंकित कुमार, रूपेश कुमार, बबलू चौधरी, संतोष रजक, उपेंद्र यादव, बुधदेव यादव, अमृत कुमार, उदय सिंह, प्रमोद सिंह, पिंटू कुमार, विशाल कुमार, भगवतिया देवी, डोमनी देवी, मालती देवी, लक्ष्मीनिया देवी, कुलवती देवी, जगरनाथ भुइयां, बालेश्वर भुइयां, नंदलाल भुइयां, सत्येंद्र भुइयां, अमित भुइयां, कपिल भुइयां, राजू भुइयां सहित एक दर्जन से अधिक गांवों के बिजली उपभोक्ता उपस्थित रहे। इस दौरान शांति व्यवस्था के लिए देव थाना की पुलिस टीम मौजूद रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page