ब्यूरो रिपोर्ट

खाना बनाने के दौरान जली थी किशोरी,लेकिन लगा दिया दुष्कर्म का विरोध करने पर आग लगाकर हत्या का आरोप,पुलिस ने किया साजिश का पर्दाफाश

ब्यूरो रिपोर्ट। प्रतिशोध की आग में जलकर इंसान सही मायने में हैवान बन जाता है और वह अपने प्रतिद्वंदी को फंसाने की कोशिश में जुट जाता है। ऐसा ही एक शर्मनाक एवं घिनौना मामला बिहार के सीतामढ़ी जिले से सामने आया है जहां गैंगरेप के विरोध करने पर नाबालिग के जिंदा जलाने के मामले में सीतामढ़ी पुलिस का सनसनीखेज खुलासा किया है।

 

गौरतलब है कि 12 डिसमिल जमीन के चल रहे विवाद के खातिर नाबालिग के पिता ने अपने दुश्मनों को फसने के लिए दुष्कर्म का विरोध करने पर अपनी बेटी के जिंदा जलाने झूठी कहानी रच दी। दरअसल नाबालिक पीड़िता चौरचंद के त्यौहार के दिन प्रसाद बनाने के दौरान आग लगने से जल गई थी। जिसकी मौत इलाज के दौरान मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच में हो गई।

 

इस घटना के बाद पीड़िता तथा उनके पिता ने अपना एक फर्द बयान अहियापुर थाना को दिया जिसके गांव के ही संजय कुमार अशोक कुमार रामबचन राय नवल राय चारों को आरोपित किया था फर्द बयान में यह आरोप लगाया गया था कि साग तोड़कर के लौटने वक्त चारों ने जबरन गैंग रेप का प्रयास किया इसका विरोध करने पर मिट्टी तेल छिड़ककर आग लगा दी गई इस आधार पर पोक्सो एक्ट की तहत मामला दर्ज कर सीतामढ़ी पुलिस ने आगे की जांच शुरू की इस मामले में परत दर परत सच का खुलासा सामने आता गया।

 

जब पुलिस इस मामले की जांच करने के लिए सीतामढ़ी जिले के पुपरी पहुंची तो मालूम हुआ कि जिन लोगों को आरोपी बनाया गया है वह आपस में चारों सगे भाई हैं और पीड़िता के पिता से उनका 12 डिसमिल जमीन का विवाद चल रहा है इतना ही नहीं इस घटना में आरोपित चारों में से दो शख्स दूसरे प्रदेश में कई महीनों से सब्जी बेचने का काम करते हैं घटना गंभीर थी जिसके कारण सीतामढ़ी एसपी ने FSL टीम को बुलाया और मौके वारदात से जब एफएसएल टीम ने जांच के लिए सेंपल इकट्ठा किए तो मामला कुछ और निकला।

 

आसपास के लोगों ने भी घटना से जुड़ी सारी कहानी बता दी जिससे अनुसंधान के क्रम में यह बातें सामने आई कि त्यौहार के दिन लड़की खाना बनाने के दौरान जल गई थी जिसको दुष्कर्म का विरोध करने पर जिंदा जलाने का रूप दिया जा रहा है फिलहाल इस मामले में पुलिस ने लड़की की मौत के कुछ घंटों बाद पूरे घटनाक्रम से पर्दा उठा दिया और हिरासत में दिए गए दोनों शख्स को भी पुलिस ने निर्दोष पाए जाने पर छोड़ दिया है। सीतामढ़ी एसपी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इस मामले से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध कराई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page