विविध

जम्होर के मखरा में आधी रात को भैंसुर ने गलत नियत से घुसा भावह के कमरे में, जबरदस्ती करने का किया प्रयास, चीखने चिल्लाने व विरोध करने पर बिजली पोल में बांधकर की पिटाई, गम्भीर अवस्था मे इलाज के लिए लाया गया अस्पताल

जख्मी पीड़िता ने कहा एक छोड़ सभी देख रहे थे तमाशा, एक व्यक्ति नही बचाता तो बाल-बच्चो के साथ निकल जाती सबकी जान

औरंगाबाद से कपिल कुमार की रिपोर्ट

कहां गया है कि जिन्हें कोई नहीं बचाता उन्हें भगवान बचाते हैं। सुख के साथी सब लोग होते हैं लेकिन दुख की घड़ी में अपने लोग भी मूकदर्शक बन जाते हैं। जब जान जाने की बारी आती है तो चारों तरफ अंधेरा छा जाता है और वह कुछ नहीं समझ पाते हैं। लेकिन जब हिम्मत से काम लिया जाए तो सब आसान हो जाता है। इसी तरह एक महिला ने अपनी जान हथेली पर रखकर आधी रात को बाल बच्चो के साथ अपनी जान बचाई है। मामला जम्होर थाना क्षेत्र के मखरा गांव की है। शनिवार की रात जो उसके साथ हुआ वह सुनकर सबके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। जख्मी हालत में इलाज के लिए सदर अस्पताल पहुँची महिला ने बताया कि शनिवार की रात 10 बजे जब वह खाना खाने के बाद अपने कमरे में सोने चली गई तो इनके भैसुर हजारी राम (जो बगल के घर मे रहते थे) छत के सहारे बाउंड्री पार कर अपनी भावह आशा देवी कमरे में घुस गया। जख्मी महिला ने बताया कि भैसुर हजारी राम ने मेरे कमरे में घुसने के बाद बलात्कार करने का प्रयास किया। विरोध करने पर चुप रहने को कहा। चीखने चिल्लाने लगी तो मारपीट कर जख्मी कर दिया। चिल्लाने की आवाज सुन बगल के कमरे में रहे मेरे 17 वर्षीय बेटा दीपक कुमार, 14 वर्षीय बेटी प्रियंका कुमारी व 10 वर्षीय बेटे अजित कुमार पहुँच कर जान बचाया। इसके बाद गोतनी प्रमिला देवी, जायुत अनिल राम, सुनील कुमार, सुधीर कुमार, उनके दामाद सरयू राम, कुसुम देवी, रेशमा देवी, नीलम देवी, फूलकुमारी समेत अन्य गोतिया के लोगो ने रात में ही हमसभी को बीजली पोल में बांधकर बेरहमी से पिटायी की। इसके बाद बगल के ही एक व्यक्ति ने पहुँचकर किसी तरह जान बचायी।

कामेश्वर राम ने किया है दो शादी, जायदाद के लिए समाप्त करना चाहता है पहली पत्नी व बच्चों को, भैसुर हजारी राम नही देना चाहता है हिस्सा

इस घटना की कहानी बिल्कुल फिल्मों की तरह फिल्माई गई है। सूत्रों से पता चला कि जम्होर थाना क्षेत्र के माखरा गांव निवासी स्व तमसूल राम के पुत्र कामेश्वर राम वर्ष की शादी वर्ष 2000 में रोहतास जिले के तिलौथू थाना क्षेत्र के ढेला बार गांव निवासी चंपा देवी व ददद राम के पुत्री आशा कुमारी के साथ हुआ था। वर्तमान में कामेश्वर राम के दो बेटे व एक बिटिया है। जो 17 वर्षीय बेटा दीपक कुमार, 14 वर्षीय बेटी प्रियंका कुमारी व 10 वर्षीय बेटे अजित कुमार है। आज से 7 साल पहले कामेश्वर राम को सास के मायके रोहतास जिले के जमुआ नावाडीह गांव की एक विधवा महिला बबीता कुंवर से आने जाने के क्रम में जान पहचान हुई। फिर दोनों की दोस्ती हो गई। दोस्ती धीरे-धीरे इतना गहरा गया की एक दूसरे के लिए जीने मरने की कसमें खा ली। फिर क्या था कामेश्वर राम ने शादी की नियत घरवालों की चोरी छुपे बबीता कुँवर को बाहर (दूसरे राज्य) ले कर चला गया। पहली पत्नी आशा देवी अपने तीन बच्चों के साथ किसी तरह जीवन यापन कर रही थी। कामेश्वर राम पांच 7 साल घर नहीं आया तो इसके भाई हजारी राम का जायदाद की ओर ध्यान बढ़ा। पीड़ित महिला ने बताया कि पति को बाहर रहने का फायदा हमारे भैंस को उठाना चाहते थे हमेशा गलत निगाहों से देखते थे शनिवार की रात अचानक घर में घुसकर छेड़खानी करने लगे किसी तरह चीख- चिल्लाकर अपनी जान बचाई। भैसुर हमेशा धमकी देता है और कहता है कि थाना पुलिस कुछ उखाड़ नहीं लेगा। 1 साल हम जेल में रहेंगे तो कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन तुम लोग को जान मार कर खत्म कर देंगे।

 

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष

जम्होर थाना प्रभारी संजय कुमार के सरकारी नंबर 9431822252 पर संपर्क करने का प्रयास किया गया। लेकिन लगातार मोबाइल स्विच ऑफ बता रहा था। जिसके कारण संपर्क नहीं हो सका। वैसे सूत्रों से पता चला कि मामला थाना तक चला गया है। पुलिस मामले की कार्रवाई में जुट चुकी है मारपीट का कारण अपनी घरेलू विवाद बताया जा रहा है। सदर अस्पताल में इलाजरत जख्मी आशा देवी का स्थानीय पुलिस फर्द बयान ले लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page