विविध

दुर्गा पूजा को लेकर एसडीओ ने रफीगंज में की शांति समिति की बैठक, कहां बिना अनुमति के नहीं स्थापित होंगे पूजा पंडाल

मेले के दौरान वाहनों की समुचित व्यवस्था व भीड़ नियंत्रण पर देना होगा खास ध्यान

औरंगाबाद, कपिल कुमार

शनिवार को दुर्गा पूजा को लेकर एसडीओ श्री विजयंत ने रफीगंज प्रखंड मुख्यालय के नगर पंचायत कार्यालय में शांति समिति की बैठक आयोजित की। इस दौरान नगर पंचायत व ग्रामीण क्षेत्रों से भी कई समाजसेवी पूजा समिति के लोग शामिल हुए। सबसे पहले इस 9 दिनों तक चलने वाली शारदीय नवरात्र की पूजा अर्चना व मेले के दौरान होने वाली भीड़ पर विशेष बातचीत की गई। एसडीओ ने कहा कि पर्व के दौरान कमेटियों को पूजा पंडाल स्थापित करने के लिए अनुमति लेना आवश्यक है। मेले में लगने वाले भीड़ के दौरान श्रद्धालुओं की परेशानी को खास ध्यान में रखना होगा। सड़कों पर चल रहे वाहनों के प्रति मुस्तैदी दिखाते हुए वाहनों को कंट्रोल किया जाएगा। पूजा पंडालों व स्थापित माँ दुर्गा प्रतिमा स्थलों के रास्ते मुख्य मार्गों पर वाहनों का परिचालन बंद रहेगा। विसर्जन से पहले कमेटी रूट 4 का भौतिक सत्यापन कर लेंगे। इस दौरान सीओ, इवो के साथ साथ सदस्य व कमेटी के लोग भी साथ रहेंगे। इस दौरान यातायात का समुचित प्रबंधन किया जाएगा बाहर से आने वाले 2 पहिया व चार पहिया वाहनों का परिचालन बंद रहेगा। पंडाल का जो निर्माण किया गया है उसमें मानकों का संपूर्ण ध्यान रखा जाएगा। आचार संहिता का अनुपालन भरपूर करना होगा। सभी पंडालों पर भीड़ नियंत्रण व श्रद्धालुओं की देखरेख की दृष्टिकोन से सीसीटीवी कैमरा के माध्यम से निगरानी रखेंगे। सभी पूजा समितियों के मेंबर बैच लगाकर के ही पूजा पंडालों में कार्य करेंगे। इस दौरान श्रद्धालुओं को होने वाले परेशानियों को भी ध्यान में रखेंगे। बच्चों को भी देखरेख परिजनों के साथ-साथ पूजा पंडाल के समिति के लोग भी करेंगे। सभी बच्चे अपने अभिभावकों के हाथ पकड़ कर के ही मेले को भ्रमण करेंगे। पूजा पंडालों में अग्निशामक की भी व्यवस्था आवश्यक है। कहीं से भी कोई खुला बिजली का तार नहीं छोड़ेंगे। कवरयुक्त तार का इस्तेमाल लाइटों के लिए पंडालों व अन्य जगहों पर करेंगे। इस मौके पर नगर पंचायत क्षेत्र के कई समाजसेवी पूजा पंडाल कमेटी के अध्यक्ष सचिव व सदस्य मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page