विविध

राज्यव्यापी भूमि समतलीकरण अभियान की हुई शुरुआत

 

 

कपिल कुमार

औरंगाबादसोमवार को जलवायु अनुकूल कृषि कार्यक्रम के अन्तर्गत राज्यव्यापी भूमि समतलीकरण अभियान का शुभारंभ किया गया। इस दौरान बिहार सरकार के कृषि विभाग मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह एवं बिहार सरकार, डॉ अरुण कुमार, कुलपति, बिहार कृषि विश्वविधयालय, भागपुर, डॉ एन सरवन कुमार, सचिव, कृषि विभाग, बिहार सरकार, डॉ आर. के. सोहाने, निदेशक, कृषि प्रसार शिक्षा, बिहार कृषि विश्वविधयालय, भागपुर, ने संयुक्तरूप से उद्घाटन किया। बिहार के सभी जिलों मे यह कार्यक्रम कृषि विज्ञान केन्द्र, के अन्तर्गत संचालित है। सभी कृषि विज्ञान केन्द्र, वर्चुअल माध्यम से जुड़े हु थे। मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा की इस अभियान के अन्तर्गत सभी जिलों मे लैन्ड लेजर लेबर मशीन के तहत खेतों का समतलीकरण किया जाएगा। जिससे किसानों फसल को जलवायु अनुकूल तकनीकी को अपनकर फसल उत्पादन क्षति को कम कर उत्पादन मे बढ़ोत्तरी कर सकते है । डॉ अरुण कुमार, ने कहा की भूमि समतलीकरण से किसानों अपने लागत को कम कर एवं फसल उत्पादकता को बढ़ाकर अपनी आय मे बढ़ोत्तरी कर सकते है ।भूमि समतलीकरण पर एक दिवसीय कार्यशाला सह प्रशिक्षण का आयोजन किया गया का आयोजन कृषि विज्ञान केन्द्र, सिरिस, औरंगाबाद मे आयोजित किया गया l जिसका उद्घाटन केन्द्र के वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान डॉ नित्यानंद, श्री रणवीर सिंह, जिला कृषि पदाधिकारी, एवं अग्रणीय जिला प्रबंधक, औरंगाबाद ने संयुक्त रूप से किया l डॉ नित्यानंद ने संरक्षित खेती के खेत की सतह की न्यूनतम जुताई, स्थायी रूप से मृदा सतह पर फसल अवशेष बनाये रखना, टिकाऊ तथा लाभदायक फसल प्रणाली बारे मे विस्तृत जानकारी देते हुए कहा की बिना भूमि समतलीकरण के खेती मे नई तकनीकी का प्रयोग खेतों मे करना असंभव है। इससे होने वाले लाभों के बारे मे जानकारी दी जिससे किसान इसे आने वाले समय मे अधिक से अधिक क्षेत्रों मे भूमि का समतलीकरण कराए एवं फसल उत्पादकता को बढ़ाए।इस अवसर पर जिला कृषि पदाधिकारी सह परियोजना निदेशक आत्मा, ने कहा की फसल उत्पादकता को बढ़ाने के लिए भूमि का समतलीकरण होना अतिआवश्यक है साथ ही कहा की लेजर लैंड लेबलर मशीन से प्रत्येक पंचायत मे कम से कम एक एकड़ खेत का प्रत्यक्षण कराया जाए। अग्रणीय जिला प्रबंधक ने बैंक के द्वारा किसानों के लिए संचालित योजनाओ के बारे मे विस्तृत जानकारी दी कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए ई0 रविरंजन कुमार ने लेजर लैंड लेबलर मशीन के परिचालन का चलन्त प्रत्यक्षण आए हुए प्रसार कृषि पदाधिकारी के सामने किया एवं मशीन के कार्य प्रणाली को विस्तृत रूप से बताया । डॉ अनूप कुमार चौबे ने संरक्षित खेती मे किस तरह से लागत को कम करके किसान अपनी आमदनी मे बढ़ोत्तरी कर सकते है और मृदा के उर्वरता एवं उत्पादकता को भी बढ़ा सकते है । डॉ पंकज सिन्हा ने फसलों मे भूमि संमतलीकरण से सिचाई प्रबंधन से होने वाले लाभों के बारे मे विस्तृत चर्चा की ।
इस कार्यक्रम मे 100 से अधिक कृषि समन्वयक, बीटीएम, एटीएम एवं किसान सलाहकारों ने भाग लिया । तथा केन्द्र के सभी कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़ें

Back to top button

You cannot copy content of this page